What is Jodha Akbar History | 5 Amazing facts about Jodha Akbar History in Hindi

Jodha Akbar History क्या है? Jodha Akbar ka Jivan Prichay, क्या आप जानते हैं अकबर से शादी के लिए जोधा की शर्तों के बारे में? Is Jodha Akbar’s love real or a lie? (जोधा अकबर का प्यार सच्चा है या झूठ?), Jodha Akbar History में जो बातें छिपी रह गई वे क्या थी? जोधा अकबर की जीवनी, कहानी हिन्दी में ।

Jodha Akbar History: दोस्तों जोधा अकबर एक राजनीतिक विवाह से शुरू हुई सोलहवीं शताब्दी की प्रेम कहानी है। जिसने एक महान मुगल सम्राट अकबर और एक राजपूत राजकुमारी जोधा के बीच सच्चे प्यार को जन्म दिया। लेकिन इसको लेकर भी इतिहासकारों में मतभेद हैं। क्योंकि कुछ इतिहासकार इस प्रेम कहानी को बिल्कुल नकारते हैं, तो कुछ इतिहासकार इसे सच्चे प्यार की गाथा बताते हैं। 

लेकिन सच्चाई क्या है दोस्तों? क्या अकबर जोधा से उतना ही प्रेम करते थे जितना हमनें टेलीविजन के सिरियल्स में देखा और अपनी इतिहास की किताबों में पढ़ा है? या यह सिर्फ इतिहासकारों की एक रोमाचंक कहानी की उपज है? यदि आप भी इन सवालों के जवाब जानना चाहते हैं तो हमारा यह ब्लॉग ‘Jodha Akbar History’ पूरा अवश्य पढ़ें। क्योंकि इससे आपके सभी संशय अवश्य ही दूर हो जायँगे।

Table of Contents

What is Jodha Akbar history? (क्या है जोधा अकबर का इतिहास?)

दोस्तों जोधा अकबर का इतिहास आज से कई वर्ष पुराना है। कहा जाता है, आमेर के राजा भारमल को अपने राज्य की सुरक्षा के लिए की आवश्यकता थी। इसलिए राजा भारमल ने सम्राट अकबर को अपनी बेटी जोधा का हाथ देने की पेशकश की। लेकिन सम्राट अकबर ने अनिच्छुक जोधा से शादी करने का फैसला किया। 

सम्राट अकबर को नहीं पता था कि राजपूतों के साथ अपने संबंधों को और मजबूत करने के लिए वह जिस युवा लड़की से शादी करने के लिए सहमत हुए हैं। वह एक उग्र राजपूत राजकुमारी थी। आगे यह कहानी एक नई सच्चे प्यार की यात्रा शुरू होने करने वाली थी इसका अंदाजा स्वयं अकबर को भी नहीं था।

Related Post:-

5 Best Facts about Babar

Rule of Aurangzeb History In Hindi

Two conditions for Jodha’s marriage to Akbar (जोधा की अकबर से शादी के लिए दो शर्तें)

रानी जोधा सम्राट अकबर से दो शर्तों पर शादी करने के लिए सहमत हुई थी। पहली यह कि वह अपने हिंदू विश्वास को बनाए रखेगी और वह मुगल महल में अपने भगवान श्री कृष्ण की पूजा कर सकती थी। अकबर ने न केवल उनकी इस शर्त को स्वीकार किया, बल्कि उन्हें खुले तौर पर व्यक्त करने के लिए उनके साहस, सादगी और चरित्र की ताकत की भी सराहना की। 

Jodha's marriage to Akbar
Jodha’s marriage to Akbar

शादी होने के पश्चात, जोधा ने दूसरी शर्त रखी: कि वह तैयार होने पर ही उनके साथ अंतरंग हो जाएगी, जिसे सम्राट अकबर ने भी स्वीकार कर लिया था। लेकिन दोस्तों शादी के पश्चात भी यह प्रेम कहानी इतनी सरलता से आगे नहीं बढ़ी। क्योंकि अकबर की सबसे बड़ी चुनौती अब केवल लड़ाई जीतने में नहीं थी। बल्कि जोधा के प्यार को जीतने में थी – एक ऐसा प्रेम जो गहरे आक्रोश और अत्यधिक पूर्वाग्रह के नीचे छिपा था।

Jodha Akbar’s Relationship Begins (जोधा अकबर के रिश्ते की शुरुआत)

जैसा कि हमनें पढ़ा जोधा को अपने पिता के राज्य की रक्षा के लिए सम्राट अकबर से शादी करने के लिए मजबूर किया जाता है। उनके रिश्ते की शुरुआत काफी नापसंद और पूर्वाग्रहों से होती है। धीरे-धीरे जैसे-जैसे वे एक साथ रहने लगे, जोधा को अकबर की बहादुरी, एक विशाल साम्राज्य पर शासन करने के उसके निष्पक्ष और न्यायपूर्ण तरीकों और उसके मजबूत व्यक्तित्व से प्रेरित होकर विस्मय का अनुभव हुआ।

Jodha Akbar's Relationship
Jodha Akbar’s Relationship

साथ ही, वह उसकी दयालुता, चरित्र की अच्छाई और उसके प्रति सम्मान से चकित थी। बदले में अकबर भी जोधा की सुंदरता, शिष्टता और दूसरों के प्रति करुणा से अत्यधिक प्रभावित था। वह जोधा से प्यार में जुड़ चुका था। लेकिन दोस्तों बदले में जोधा के प्यार का इंतज़ार अभी भी बाक़ी था।

Historical love of Jodha Akbar (जोधा अकबर का ऐतिहासिक प्रेम)

सम्राट अकबर ने शर्त के अनुसार जोधा के कक्ष के अंदर एक छोटा सा मंदिर बनवाया और उसकी किसी भी गतिविधि में हस्तक्षेप नहीं किया। दूसरी तरफ रानी जोधा ने, हिंदुस्तान की रानी होने के बावजूद उनके लिए खाना बनाया और जब अकबर बीमार पड़ गए, तो उसने सच्ची भक्ति के साथ उनका पालन-पोषण किया। 

Historical love of Jodha Akbar
Historical love of Jodha Akbar

वे दोनों ही गहराई से एक दूसरे के प्यार में पड़ गए और उनका सच्चा मिलन मानसिक और शारीरिक रूप से हुआ। दोस्तों वे एक दूसरे के पूरक थे और राजनीतिक और सामाजिक दायित्व के लिए विवाह के रूप में जो शुरू हुआ, वह जीवन भर के लिए शाश्वत प्रेम और सच्ची भक्ति में बदल गया। जिसे इतिहासकारों ने इतिहास में सुनहरे अक्षरों से लिखा।

The reason why Akbar gave preference to Jodha over other queens (अकबर द्वारा जोधा को अन्य रानियों से ज्यादा वरीयता दिया जाने का कारण)

दोस्तों ऐसा कहा जाता है कि जोधा बेहद खूबसूरत और प्रतिष्ठित थी। लेकिन अपने व्यक्तित्व गुणों के अलावा, उसने अकबर को वह दिया जो उसकी अन्य रानियां नहीं कर सकती थीं – एक वारिस। अकबर की पहली रानी निःसंतान रुकैय्या बेगम थी, और उसकी दूसरी पत्नी सलीमा सुल्तान थी, जो उसके सबसे भरोसेमंद सेनापति बैरम खान की विधवा थी। लेकिन जोधा ने उन्हें एक वारिस देकर अन्य रानियों से अधिक वरीयता प्राप्त की।

दोस्तों यह भी कहा जाता है कि, शेख सलीम चिश्ती की दरगाह पर सम्राट अकबर की सभी प्राथनाएं क़बूल हो गई। वह नंगे पैर ही संतान की कामना लिए फतेहपुर सीकरी तक आये थे। जिसके कारण बाद में उनके पहले जीवित बच्चे जहांगीर का जन्म हुआ।

जिसके बाद महारानी जोधा का अकबर की नज़रों में प्रेम के साथ साथ राजनीतिक मामलों में भी दबदबा बढ़ गया। वह अकबर की एकमात्र रानी थी जो फरमान (आधिकारिक डिक्री) जारी कर सकती थी, जो आमतौर पर सम्राट का विशेष विशेषाधिकार था। जोधा ने अपने प्रभाव का इस्तेमाल देश भर में उद्यान, कुएं और मस्जिद बनाने के लिए किया।

Emperor Akbar’s loyalty to the Rajputs in history (इतिहास में सम्राट अकबर की राजपूतों के प्रति निष्ठा)

सम्राट अकबर वीरता के साथ संयुक्त महान राजनीतिक कौशल के व्यक्ति थे। उन्होंने न केवल हिंदू कुश को सुरक्षित करने में मदद की, बल्कि अफगानिस्तान से बंगाल की खाड़ी तक और हिमालय से नर्मदा नदी तक अपने साम्राज्य का विस्तार किया। कूटनीति, धमकी और क्रूर बल के एक चतुर मिश्रण के माध्यम से, अकबर ने राजपूतों की निष्ठा जीत ली। लेकिन यह निष्ठा सार्वभौमिक नहीं थी। 

Emperor Akbar
Emperor Akbar

गर्वित राजपूत राजाओं का एक समूह था जो अकबर को हमेशा एक विदेशी आक्रमणकारी मानता था। ऐसी परिस्थितियों में, राजपूतों और मुगलों के बीच विवाहों को अस्वीकार कर दिया जात था। लेकिन आमेर के राजा भारमल ने अपनी बेटी जोधा का विवाह अकबर के साथ तय करके इतिहास को एक नया मोड़ दिया। जिससे भविष्य में मुगलों व राजपूतों के बीच सम्बंधों में भी सुधार हुआ।

Maharana Pratap’s opposition to Akbar (महाराणा प्रताप का अकबर पर विरोध)

दोस्तों एक ओर जहाँ Jodha Akbar History में जोधा अकबर का प्रेम दर्ज हो रहा था। तो वहीं महाराणा प्रताप ने विद्रोही राजाओं के समूह का नेतृत्व किया और उन राजपूतों के बीच अंतर्विवाह पर प्रतिबंध लगा दिया। जिन्होंने अपनी बेटियाँ मुगलों को दी थीं और जिन्होंने अपनी बेटियाँ मुगलों को नहीं दी थीं। इन सभी मुद्दों ने ऐतिहासिक हलचल व गम्भीर रूप से कई युद्धों को जन्म दिया। जिसमें भविष्य में हजारों व लाखों मासूम लोगों ने भी अपनी जान गवाई।

Other Biography Post:-

10 Amazing Facts About Dr. Narayan Dutt Shrimali in Hindi-Dr. Narayan Dutt Shrimali Biography in Hindi

10 Amazing facts about Vikram Sarabhai in Hindi-Vikram Sarabhai Biography in Hindi

Lesser Known History of Jodha Akbar (जोधा अकबर का कम ज्ञात इतिहास)

दोस्तों यहाँ Jodha Akbar History में जो बातें छिपी रह गई वह बताई गई हैं:

Lesser Known History of Jodha Akbar
Lesser Known History of Jodha Akbar
  • अंबर (आधुनिक जयपुर) के राजा भारमल की बेटी के साथ अकबर का विवाह काफी स्पष्ट रूप से राजनीतिक अधिग्रहण के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला एक उपकरण था। 
  • जोधा का पहला नाम (हीरा कुमारी) था। जिसका विवाह अकबर से 20 जनवरी, 1562 को जयपुर के निकट सांभर में हुआ था।
  • वह अकबर की तीसरी पत्नी थीं। यहां यह ध्यान रखना दिलचस्प होगा कि अकबर की कुल पत्नियों की कुल संख्या पर बहुत कम स्पष्टता है।
  • अकबर से जोधा की शादी के बाद जोधा को मरियम उज़-ज़मानी कहकर सम्बोधित किया जाने लगा।
  • एक तथ्य यह भी है कि बाद में अन्य राजपूत राज्यों ने भी अकबर के साथ इसी तरह के वैवाहिक संबंध स्थापित किए थे।
  • दोस्तों इतिहास वास्तविक अर्थों में जोधाबाई के साथ अकबर के रोमांस के किसी भी उदाहरण की पुष्टि नहीं करता है। फिर भी, जोधाबाई को अकबर की पसंदीदा रानी के रूप में संदर्भित किए जाने पर लगभग सर्वसम्मति प्रतीत होती है।

Is Jodha Akbar’s love real or a lie? (जोधा अकबर का प्रेम असल है या झूठ?)

Jodha Akbar real story: दोस्तों, हाँ वाकई वे सच्चे प्रेमी थे। सम्राट अकबर अपनी पहली राजपूत पत्नी, आमेर की राजकुमारी और राजा भारमल की सबसे बड़ी बेटी से बहुत प्यार करता था। बस यह इतिहास में स्पष्ट नहीं है कि उसे जोधा कहा जाता था या हीर / हरखा कहा जाता था, लेकिन मरियम उज़ ज़मानी जोधा एक दूसरे स्थान पर नाम लिखा गया है। अतः आज भी मतभेद जारी है। लेकिन ये प्रेम गाथा इतिहास में आज भी अमर है।

FAQs about Jodha Akbar History

What was the first name of Rani Jodha? (रानी जोधा का पहला नाम क्या था?)

रानी जोधा का पहला नाम हीरा कुमारी था।

When and where did Jodha Akbar get married? (जोधा अकबर का विवाह कब और कहाँ हुआ था?)

जोधा अकबर का विवाह 20 जनवरी, 1562 को जयपुर के निकट सांभर में हुआ था।

Did other Rajput states also establish matrimonial relations with Akbar? (क्या अन्य राजपूत राज्यों ने भी अकबर के साथ वैवाहिक संबंध स्थापित किए थे?)

जी हाँ, एक तथ्य है कि बाद में अन्य राजपूत राज्यों ने भी अकबर के साथ इसी तरह के वैवाहिक संबंध स्थापित किए थे।

What was the last name of Rani Jodha? (रानी जोधा का आखरी नाम क्या था?)

रानी जोधा का आखरी नाम मरियम उज़ ज़मानी था।

How many conditions did Jodha put for marriage to Akbar? (जोधा ने अकबर से विवाह के लिए कितनी शर्तें रखी थी?)

महारानी जोधा ने अकबर से विवाह के लिए दो शर्तें रखी थी।

In which god did Maharani Jodha have deep faith? (महारानी जोधा का किस भगवान के प्रति गहरी आस्था थी?)

महारानी जोधा की श्री कृष्ण भगवान के प्रति गहरी आस्था थी।

Are you know about Jodha Akbar real story?(क्या आप जोधा अकबर की असली कहानी के बारे में जानते हैं?)

Yes, जी हाँ Jodha Akbar real story के विषय में सभी जानते हैं । इस पर हिन्दी फिल्म भी बन चुकी है । ‘Jodha Akbar real story’ यह इतिहास की सच्ची प्रेम कहानी है ।

Final Words for Jodha Akbar History

हम उम्मीद करते हैं हमारे इस ब्लॉग ‘Jodha Akbar History के माध्यम से आपको आपके सभी सवालों के जवाब मिल गए होंगे। लेकिन इस ब्लॉग के माध्यम से हम किसी प्रकार का समर्थन व प्रचार नहीं कर रहे। यह केवल जानकारी देने के लिए हमारे द्वारा लिखा गया है। 

इसलिए यदि आप ऐसी ही महत्वपूर्ण व रोचक जानकारियां और पढ़ने चाहते हैं तो हमारे पेज से जुड़े रहें और यदि आपके पास कोई सुझाव व प्रश्न है तो आप कमेन्ट बॉक्स में अपना सवाल पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सुझावों और सवालों के जवाब देने के लिए हमेशा उपलब्ध हैं, धन्यवाद।

अन्य ब्लॉग पढ़ें:-

8 Interesting facts about Mehandipur Balaji in Hindi 

8 Amazing Gratitude Meditation practice techniques in Hindi

Leave a Comment