5 Hidden Facts About Swift Sanction on Russia : Kya Asar Padega Russia Par Iska

Swift Sanction on Russia : जैसा कि हम सब जानते ही हैं कि यूक्रेन और रशिया के बीच में घमासान युद्ध चल रहा है और इस युद्ध को चलते चलते आज 4 दिन बीत गए हैं इससे बहुत लोगों की जान को हानि भी पहुंचे और बहुत बड़े पैमाने पर इससे लोगों का नुकसान हुआ है बहुत सारे देश ऐसे हैं जो कि अपने अपने सिटीजंस को निकालने में यूक्रेन से लगे हुए हैं और यूक्रेन भी बहुत ज्यादा प्रभावशाली तरीके से ढका हुआ है रसिया नहीं बहुत सारे हथकंडे अपनाए हैं यूक्रेन को ध्वस्त करने में और

5 Hidden Facts About Swift Sanction on Russia : Kya Asar Padega Russia Par Iska

जब भी बात आती है मानव अधिकारों की तो मानव अधिकारों के लिए सबसे पहले विश्व स्तर पर बहुत सारे देश खड़े होते हैं

Swift Sanction on Russia : और इसी का ही एक एग्जांपल है russia के ऊपर स्विफ्ट सैंक्शन का लगना आजकल के माध्यम से हम आप लोगों को बताएंगे कि स्विफ्ट सैंक्शन क्या होता है और उसी के साथ-साथ इसके बारे में हम चर्चा करेंगे किस की फुल फॉर्म क्या होती है और इसके क्या क्या प्रतिबंध के असर पड़ेंगे Russia जैसे बड़े देश पर।

5 Hidden Facts About Swift Sanction on Russia : Kya Asar Padega Russia Par Iska

What is Swift Sanction?( Swift Sanction क्या होता है?)

Swift Sanction on Russia: सबसे पहले सबसे पहले तो हमें यह समझने की बहुत ज्यादा जरूरत है कि स्विफ्ट होता क्या है यदि हम बात करें स्विफ्ट की तो सिर्फ एक बड़े पैमाने की ग्लोबल मैसेजिंग सर्विस है जिस पर पूरा विश्व लगभग 200 से ज्यादा देश ऐसे हजारों से भी ज्यादा वित्तीय संस्थान हैं जो कि इस मैसेजिंग सर्विस का इस्तेमाल करती हैं यह बड़े पैमाने पर इसलिए कहा जाता है क्योंकि बहुत सारे देशों के बैंक इस विदेशी मैसेजिंग सर्विस पर ही निर्धारित है और बहुत ही आसान हो जाता है

Swift Sanction on Russia: इस मैसेजिंग सर्विस से काम करना यदि यह प्रतिबंधित किया जाता है किसी भी देश के लिए तो उस देश के बैंकों के लिए और वित्तीय संस्थानों के लिए काम बहुत मुश्किल हो जाता है और इसी का असर सीधा सीधा उसकी मामी पर देखने को मिलता है।

Swift Sanction on Russia ( Russia पर स्विफ्ट प्रतिबंध)


Swift Sanction on Russia: सबसे पहले तो इस बात को मैं समझना बहुत जरूरी है कि प्रतिबंध का मतलब क्या होता है ऐसा कहा जाता है कि जब भी कोई देश दूसरे देश पर बिना किसी कारण के आक्रमण कर देता है और बहुत सारी आत्माएं शो के बाद समझाएं शो के बाद भी वह नहीं मानता है तब प्रतिबंध लगाया जाता है प्रतिबंध का मतलब है कि आप उन सर्विसेस को बंद कर देते हैं उस देश के लिए जो कि हमला कर रहा होता है और रसिया के साथ भी ऐसा ही हुआ रसिया पर स्विफ्ट सैंक्शन लगा हुआ है

मतलब स्विफ्ट प्रतिबंध लगा हुआ है और यह स्विफ्ट मैसेजिंग सर्विसेस का प्रतिबंध रसिया के ऊपर लगाया गया है।

5 Hidden Facts About Swift Sanction on Russia : Kya Asar Padega Russia Par Iska

यदि हम बात करें और उस पर प्रतिबंध की तो जैसा कि हम सब जानते हैं कि G7 मतलब ग्रुप ऑफ़ 7 डिग्री यानी कि साथ ऐसी बड़ी अर्थव्यवस्था है जिन्होंने विश्व में अपना परचम लहरा रखा है यह संघट के मेंबर्स ने यह सहमति दर्ज कराई है कि रूस के ऊपर यूरोप डॉलर यह और पाउंड मतलब अलग-अलग करेंसी में अंतर्गत व्यवसाय करने की क्षमता पर प्रतिबंध लगाया जाएगा

और इसमें सब ने सहमति दर्ज कराई है अब इससे फर्क यह पड़ेगा कि रूस की वित्तीय क्षमता पर जो भी प्रतिबंध लगेगा

उससे रूस की इकोनामी पर बहुत ज्यादा फर्क पड़ेगा और इससे बैंकों के लिए विदेश में कारोबार करना बहुत मुश्किल हो जाएगा रूस के लिए रूस के बैंक ऐसे हैं जो बहुत अलग-अलग देशों में फैले हुए हैं उसके लिए अर्थव्यवस्था का हिलना एक बड़ा कारण माना जा सकता है स्विफ्ट प्रतिबंध।

YOU CAN ALSO READ

How to Reprogram Subconscious Mind in Hindi with 10 best Positive Affirmations

5 Hidden Facts About Swift Sanction on Russia : Kya Asar Padega Russia Par Iska

Swift System History ( Swift Sanction का इतिहास)


ऐसा नहीं है कि इतिहास में कभी यह इस्तेमाल नहीं किया क्या आप इतिहास के पन्नों में भी यह प्रतिबंध लगाया जा चुका है संध्या 2012 और इसकी वजह से बहुत बड़ा नुकसान झेलना पड़ा था ईरान को ईरान के ऊपर प्रतिबंध लगाया गया था 2012 में और इसकी वजह से ईरान की तेल से होने वाली बिक्री पर जो अच्छी कमाई होती थी उसमें भारी गिरावट आई थी और ऐलान को इसकी वजह से बहुत गहरा और भयंकर तरीके से अर्थव्यवस्था पर प्रभाव देखने को मिला था।

Final Words For 5 Facts About Swift Sanction : Full Form of Swift Sanction

हम आशा करते हैं आप लोगों को है आर्टिकल पसंद आया होगा अपना कीमती वक्त निकालकर इसे पढ़ने के लिए धन्यवाद!

Leave a Comment