50 amazing Life-Changing Stories: Raja Parikshit Story Hindi Kahani

Raja Parikshit Story Hindi Kahani : तो आज के 50 अमेजिंग लाइफ चेंजिंग कहानी के संग्रह में हम आप लोगों के लिए एक ऐसी ही दिलचस्प कहानी लेकर आए हैं जिसका नाम है राजा परीक्षित की कहानी जी हां राजा परीक्षित जो की महाभारत की कथा में बहुत ही महत्वपूर्ण हिस्सा बने और आज की इस कहानी के माध्यम से हम आप लोगों को उन्हीं के बारे में बताने जा रहे हैं

Raja Parikshit Story Hindi Kahani

आज दिलचस्प कहानी में हम आप लोगों को महाभारत से जुड़ा एक ऐसा कैसा बताएंगे जिसको जानकर आप भी मन में थोड़े से परेशान हो सकते हैं हमें इस कहानी से बहुत गहरी सीख भी मिलती है कि हमें कभी भी छल कपट नहीं करना चाहिए और इसी की वजह से हमें यह कहानी बेशक सुननी चाहिए और बिना किसी देरी के चलिए इस कहानी की शुरुआत करते हैं।

Raja Parikshit Story Hindi Kahani

Raja Parikshit Story Hindi Kahani

के कहानी महाभारत के युद्ध की है जब अश्वत्थामा ने द्रौपदी के पांचों पुत्र को मार दिया था अश्वत्थामा के पांचों पुत्रों के मरने के बाद द्रौपदी बड़ा क्रोध में थी और वह जानकारी पाते ही अश्वत्थामा का बुरा चाहने लगे थी और उन्होंने प्रण लिया था कि वह अनशन पर बैठेंगे और जब तक अनशन नहीं तोड़ेंगे जब तक उनके सिर पर लगी मणि उन्हें नहीं मिल जाती जब अर्जुन को इसकी जानकारी हुई तो अश्वत्थामा से वह युद्ध करने चले गए

Raja Parikshit Story Hindi Kahani

Raja Parikshit Story Hindi Kahani

और अश्वत्थामा ने अर्जुन से युद्ध करते हुए ब्रह्मास्त्र निकाल लिया अर्जुन ने ब्रह्मास्त्र के बचाव के लिए अपना ब्रह्मास्त्र निकाल लिया यह देख नारद मुनि उनके सामने प्रकट हुए नारद मुनि ने आग्रह किया कि वह ब्रह्मास्त्र का इस्तेमाल ना करें अर्जुन ने तो नारद मुनि की बात मान ली पर अश्वत्थामा ने ऐसा नहीं किया और अश्वत्थामा ने वह ब्रह्मास्त्र छोड़ दिया जिसका मुंह उन्होंने अभिमन्यु की पत्नी जो की गर्भवती थी उस वक्त में उनकी ओर कर दिया अभिमन्यु की पत्नी उत्तरा के पुत्र का जन्म होना तय है था

Raja Parikshit Story Hindi Kahani

क्योंकि नियति में लिखा जा चुका था और इस पर क्रोधित हुए श्री कृष्ण भगवान ने अश्वत्थामा को श्राप दिया कि तुम 3000 साल तक इस ही जीवन में पढ़ते रहोगे तुम्हारा खून तुम्हारे शरीर से बेहतर रहेगा तुम्हारे शरीर में भिन्न-भिन्न प्रकार की बीमारियां लगी जाएंगी पर उत्तरा का पुत्र तो इस जन्म में पैदा होकर ही रहेगा क्योंकि वह यदि मित्र भी पैदा होता है

Raja Parikshit Story Hindi Kahani

Raja Parikshit Story Hindi Kahani

तो मैं उसे जीवनदान दूंगा यह बात सुनकर अश्वत्थामा घबरा गए पर ब्रह्मास्त्र एक बार जा चुका होता है तो वह रुकते नहीं है अश्वत्थामा का ब्रह्मास्त्र उत्तरा के गर्भ में जा लगा और ब्रह्मा अस्त्र की वजह से उतरा को कष्ट हुआ

Raja Parikshit Story Hindi Kahani

जब अश्वत्थामा को श्राप मिला तो अर्जुन ने सुदामा को रस्सी से बांध और वह द्रौपदी के पास उन्हें ले गए और सुदामा की हालत देखकर द्रौपदी को दया आ गई और उन्होंने उसे छोड़ने को कहा जो पति के इशारे पर अर्जुन ने सुदामा को छोड़ तो दिया पर श्री कृष्ण के कहने पर जिन्हें वह मणि निकाल ली जो कि अश्वथामा के सिर पर लगी हुई थी वजह से उत्तरा के गर्भ में बहुत दर्द हो रहा था और वह जोर-जोर से चिल्लाने लगे इसको देखते हुए कृष्ण भगवान ने अपना छोटा रूप धारण किया

Raja Parikshit Story Hindi Kahani

और वह उत्तरा के गर्भ में जा खड़े हुए और उन्होंने ब्रह्मास्त्र से हो रही पीड़ा को कम करने का प्रयास किया अंत में उत्तरा का पुत्र हुआ पर वह मृत था उसको देख सब रोने लगे उसे कहने लगे कि आपने तो कहा था कि मेरे पुत्र को आप जीवन दान देंगे और इसी को देखते हुए भगवान श्री कृष्ण ने जैसे ही बच्चे के ऊपर हाथ फेरा दोबारा से जीवंत हो गया और इसको देख कर सब खुश होने लगे युधिस्टर भी जब युद्ध से लौटे और उन्हें पता चला कि उन्हें पुत्र को जन्म दिया है तो वह भी खुश हो गए

Raja Parikshit Story Hindi Kahani

और सारी स्त्रियां भी इस चीज को देखकर आश्चर्यचकितहुई की वह बालक कैसे जीवित हो गया और इसी की वजह से वह सारे जश्न मनाने लगे उन्होंने हाथियों को खोल दिया दान धर्म किया और खुशी के साथ में उस बच्चे का सत्कार किया और उस बच्चे का नाम परीक्षित रखा गया ।

Raja Parikshit Story Hindi Kahani


ज्योतिषी को बुलाकर बच्चे के भविष्य के बारे में जानकारी ली गई तो ज्योतिषी ने कहा कि अदालत कहलायेगा और यशस्वी पराक्रमी और दान देने वाला कहलाएगा आगे बताया कि यह बालक बहुत ही ज्यादा ज्ञानी होगा और इसके चर्चे बहुत साल बाद भी रहेंगे यह बात सुनकर खुश हुए और उन्होंने पंडित जी को दक्षिणा देकर विदा किया।

Raja Parikshit Story Hindi Kahani

YOU CAN ALSO READ

Meditation Kya Hai Aur Kaise Karen-Meditation Ek Adat in Hindi: 2 best Focus Points Of Meditation

Raja Parikshit Story Hindi Kahani

50 amazing Life Changing Stories : Raja Parikshit Story Hindi Kahani

Raja Parikshit Story Hindi Kahani : इस कहानी से हमें यह सीख मिलती है कि हमें कभी भी बुराई का साथ नहीं देना चाहिए और हमें छल कपट से कोई भी कार्य को नहीं करना चाहिए चल कपट के साथ में कोई भी कार्य करते हैं या बुराई के साथ में कोई भी कार्य करते हैं तो इससे हमें बुरे ही प्रभाव अपने जीवन पर मिलते हैं और बुरा ही हमें अपने जीवन में घूमने को मिलता है तो इसी की वजह से हमें अपने जीवन काल में सही राह पर चलते हुए आगे बढ़ना चाहिए और छल कपट से दूर रहना चाहिए।

Leave a Comment