50 amazing Life-Changing Stories: Kabotar ka Ghonsla Gautam Budh Hindi Kahani

Kabotar ka Ghonsla Gautam Budh Hindi Kahani : आज इस कहानी संग्रह में आप लोगों के लिए ऐसी कहानी लेकर आए हैं जिसको सुनकर आपको जीवन में एक ऐसी शिक्षा मिलेगी जिसको जानकर आप अपने जीवन को सार्थक बना सकते हैं जिससे आपके जीवन में कोई भी आपको आगे बढ़ने से नहीं रोक सकता क्योंकि यह कहानी दरअसल गौतम बुद्ध से जुड़ी हुई है और हम सब जानते हैं

50 amazing Life Changing Stories : Kabotar ka Ghonsla Gautam Budh Hindi Kahani

कि गौतम बुद्ध का व्यक्तित्व ऐसा है कि यदि आप अपने जीवन में गौतम बुद्ध की सिखाई हुई सीख को अपने जीवन में उतार ले तो आपको सफल होने से कोई भी नहीं रोक सकता गौतम बुद्ध एक ऐसे व्यक्तित्व वाले व्यक्ति थे जिन्होंने बहुत सारे लोगों का जीवन बदला और अपनी शिक्षाओं से वह आज भी लोगों को प्रेरणा दे रहे हैं और काफी लोगों का जीवन सुधार रहे हैं तो सुनते हैं और जानते हैं कि गौतम बुद्ध की इस कहानी से हमें क्या शिक्षा मिलती है।Kabotar ka Ghonsla

इस कहानी की शुरुआत होती है कि एक बार की बात है गौतम बुद्ध अपने शिष्यों के साथ में अपनी कुटिया के बाहर पेड़ के नीचे बैठे थे तभी जब अपने शिष्यों को शिक्षा दे रहे थे तभी सामने से उनके एक कबूतर और कबूतरी का जोड़ा उड़ते हुए जाता है उन्हें देखकर गौतम बुद्ध के मन में एक कहानी आ जाती हैं और वह अपने शिष्यों से कहते हैं कि आज मैं तुम्हें एक कहानी सुनाता हूं और तुम्हें एक शिष्य के तौर पर समझाने का प्रयास करता हूं कि हमारे जीवन में सीखना कितना अनिवार्य है।Kabotar ka Ghonsla

50 amazing Life Changing Stories : Kabotar ka Ghonsla Gautam Budh Hindi Kahani

गौतम बुद्ध ने कहानी सुनाना शुरू किया कि एक बार की बात है एक पेड़ पर 1 कबूतर और कबूतरी रहा करते थे वह अपने जीवन यापन करने के लिए रोज उड़ते अपने खाना खाते दाना चुग दे और वापस लौट कर पेड़ की टहनी पर आ जाते और पेड़ की टहनी पर वह रहते थे।
दरअसल वह जिस टहनी पर रहते थे तो उस पर उन्हें घोंसला नहीं था कोई पत्तों की मदद से बना हुआ एक तरह का झुंड था पत्तों का जिस पर वह लोग रहते थे ।Kabotar ka Ghonsla


और उन्होंने उसी पर दो तीन अंडे दिए एक बार की बात है जब कबूतर कबूतरी पेड़ की टहनी पर नहीं थे वह उड़ते हुए कहीं चले गए थे तब लोमड़ी आई और लोमड़ी भूखी थी उसने खाने की तलाश में देखते हुए उन अंडों को खा लिया जब पेड़ पर लौटकर कबूतर कबूतरी की जोड़ी आई तो उन्होंने देखा कि उनके बच्चे वहां नहीं थे और इस बात को देखकर उन्हें बड़ा दुख हुआ कि उनके बच्चों को किसी ने मार दिया इसी दुख के कारण उन्होंने यह फैसला किया कि वह अब घोंसला बनाएंगे।Kabotar ka Ghonsla

50 amazing Life Changing Stories : Kabotar ka Ghonsla Gautam Budh Hindi Kahani


ताकि उनके बच्चे सुरक्षित रह सके और वह किसी ऐसी जगह पर घोषणा बनाएंगे जहां पर किसी जानवर की नजर भी ना पड़े तो उन्होंने यही फैसला किया और उन्होंने तिनके इक्खट्टऐ करना शुरू किया ।
हवा की वजह से नीचे गिर जाने की वजह से परेशान हो गए और उन्होंने निश्चय किया कि वह अब दूसरे पक्षियों से मदद लेंगे और घोंसला बनाना सीखेंगे हमें कोई काम नहीं आता तो हम एक दूसरे से मदद मांगने में पीछे या फिर शर्म नहीं करनी चाहिए।Kabotar ka Ghonsla


दूसरे पक्षी भी उनका व्यथा सुनकर उनके घोसले बनाने में उनकी मदद के लिए आगे आए जब वह घोंसला बना रहे थे तो कबूतर को बड़ा ही घमंड आ गया और उसने कहा कि मै सीख गया हूं अब आप लोग जा सकते हो मैं अपना घोंसला खुद बना सकता हूं पक्षियों ने भी उसकी बात मान ली और वह चले गए जो कबूतर ने अपने प्रयासों से घोसला बनाने का प्रयत्न किया तो उसने देखा कि वह घोंसला नहीं बना पा रहा है ।Kabotar ka Ghonsla

50 amazing Life Changing Stories : Kabotar ka Ghonsla Gautam Budh Hindi Kahani


कुछ भी नहीं बस उसका घमंड था जिसकी वजह से उसने और पक्षियों को भगा दिया दूसरी बार फिर से आ गए और कुछ देर बाद ही कबूतर ने घमंड में आकर कहा कि मैं पूरी तरह से सीख गया हूं अब आप जा सकते हैं पक्षियों को इस बार बहुत गुस्सा आ गया और उन्होंने दोबारा लौट कर ना आने का निश्चय किया और जब दोबारा कबूतर ने कोशिश की तो कबूतर इस बार भी घोंसला नहीं बना पाया Kabotar ka Ghonsla

और अब की बार मदद मांगने और पक्षियों के पास पहुंचा तो अबकी बार पक्षियों ने मदद करने से बिल्कुल मना कर दिया और कबूतर का घोंसला कभी बन ही नहीं पाया इसी की वजह से कहते हैं कि यदि हम किसी से मदद मांग रहे हैं किसी से कोई काम सीख रहे हैं तो हमें उसे पहले अच्छी तरह से सीख लेना चाहिए और घमंड बस हमें हमारी मदद करने वाले व्यक्ति का अनादर नहीं करना चाहिए।

YOU CAN ALSO READ

How to Reprogram Subconscious Mind in Hindi with 10 best Positive Affirmations

50 amazing Life Changing Stories : Kabotar ka Ghonsla Gautam Budh Hindi Kahani

हमें इस कहानी से यह सीख मिलती है कि यदि हमारी मदद के लिए कोई व्यक्ति आता है तो हमें उसका आदर करना चाहिए और उससे इज्जत पूर्ण शिक्षा ग्रहण करनी चाहिए हमें घमंड तो बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए यदि हमारी मदद कोई व्यक्ति करता है वह हमारे लिए अपना वक्त निकालता है तो हमें उस चीज का आदर करना चाहिए और सम्मान पूर्वक उससे हम ना धन्यवाद देना चाहिए ना कि उसकी बेइज्जती करके उसे भगा देना चाहिए।

Leave a Comment