5 Amazing Facts about Dhruva Tara : Dhruva Tara Kahani in Hindi

Dhruva Tara Kahani in Hindi : हम सभी ने ध्रुव तारे के बारे में बहुत बार कहीं ना कहीं किसी न किसी के मुंह से सुना ही होता है और हम कहीं बाहर इसे पढ़ते भी हैं पर क्या आप जानते हैं कि ध्रुव तारे की कहानी कैसे दिलचस्प कहानी है जिसके बारे में बहुत कम ही लोग जानते हैं जी हां बिल्कुल सही सुना आपने ध्रुव तारे की कहानी जिसमें एक बालक तपस्या कर भगवान की गोद में जाकर बैठ जाता है और

5 Amazing Facts about Dhruva Tara : Dhruva Tara Kahani in Hindi

Dhruva Tara Kahani in Hindi: अंत में वह दो तारे के नाम से ही पूरी दुनिया में ऐसा जाना जाता है कि आज भी ध्रुव तारे का नाम आते ही हम सब एक अलग ही सकारात्मकता का असर महसूस करते हैं।


आज किस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको बताएंगे कि ध्रुव तारे की कहानी क्या थी और राजा उत्तानपाद ने कैसे ध्रुव तारे की कहानी जुड़ी हुई है और इसी के साथ साथ हम आपको यह भी बताएंगे कि ध्रुवतारा है कि कहां सेहत क्या है और कैसे ग्रुप तारे सबसे अलग तारों में से एक है।

5 Amazing Facts about Dhruva Tara : Dhruva Tara Kahani in Hindi

Dhruva Tara Kahani in Hindi


Dhruva Tara Kahani in Hindi: ये कहानी है राजा उत्तानपाद की जो कि ब्रह्मा जी के पुत्र थे और ऐसा कहा जाता है कि उनका विवाह एक सुंदर कन्या से हुआ था जिनका नाम था सुनी थी और ऐसा कहा जाता है कि उनकी कोई संतान नहीं थी दोनों इस बात से बहुत परेशान रहते थे और सुनीति ने यह निश्चय किया और राजा से आग्रह किया कि वह दूसरी शादी करने पर राजा ने उनकी एक न मानी उन्होंने उनका कहना था कि यदि वे तू शादी कर लेंगे तो उनका स्थान महल में कम हो जाएगा और

5 Amazing Facts about Dhruva Tara : Dhruva Tara Kahani in Hindi

Dhruva Tara Kahani in Hindi: यह मैं नहीं चाहते पर सुनीता ने उनसे हटती और इसके चलते राजा ने दूसरे विवाह कर लिया जिनका नाम सुरुचि था सुरुचि महल में प्रवेश कर रही थी तो उन्हें पता चला कि उनके पति की पहले भी शादी हो चुकी है और उन्होंने राजा से आग्रह किया कि जब तक वह अपनी पत्नी को नहीं छोड़ेंगे जब तक वह मेल में नहीं आएंगी और इस बात को सुनकर सुनीति ने महल छोड़ दिया और वह जंगल में रहने चली गई।

5 Amazing Facts about Dhruva Tara : Dhruva Tara Kahani in Hindi


Dhruva Tara Kahani in Hindi: एक बार की एक बार की बात है जब राजा शिकार खेलने जा रहे थे तो वह शिकार करते वक्त में 1 में घायल हो गए और सुनीति को जब इस बात का पता चला तो उन्होंने राजा को अपनी कुटिया में लेकर आए और उन्होंने उनका उपचार किया और उसी के दौरान वह गर्भवती हुई और उससे उनका एक पुत्र हुआ जन का नाम दुर्ग रखा गया और जिसके बारे में राजा को ज्ञात नहीं रहता और

Dhruva Tara Kahani in Hindi: उसके पश्चात वह अपने महल चले जाते हैं और अपनी रानी सुरुचि को पुत्र रत्न की प्राप्ति होती है और उनका नाम उत्तम रखा जाता है के बारे में पता चलता है तो उन्होंने रानी सुनीति से आग्रह करते हैं कि वह लौट आए


Dhruva Tara Kahani in Hindi : वह नहीं आती है कभी कबार ध्रुव को भेज दिया कर उचित रूप से घृणा होने लगती है और उस प्रेम को बांटना नहीं चाहती जो कि उनके पुत्र के लिए वह मानते हैं और एक दिन जब अपने पिता उत्तानपाद की गोद में बैठता है तो इसी को कहते हैं और उन्हें यह कहते हैं। इस बात से आहत होकर जब घर लौटे हैं तो मैं अपनी मां को सारा घटनाक्रम बताते हैं मैं उन्हें समझा देती हैं कि बैठक अगर कोई हमें गलत बोलता है तो हमें उनसे गलत नहीं व्यवहार करना चाहिए और पर यह बात ग्रुप के मन में बैठ जाती है

Dhruva Tara Kahani in Hind: और 1 दिन में यमुना नदी के किनारे बैठ कर तो उदास बैठे होते हैं नारद मुनि आते हैं उनका हाल पूछते हैं और नारद मुनि जी के तपस्या का उपाय उन्हें बता कर जाते हैं और वह तब से शुरू कर देते हैं वह बालक ओम नमो भगवते वासुदेवाय का उच्चारण करते हैं हुए विलीन हो जाते हैं


Dhruva Tara Kahani in Hind : और पूरे ब्रह्मांड में ओम नमो भगवते वासुदेवाय का गूंजने लगता है अंत में भगवान को दर्शन देने होते ही हैं जब भगवान देते हैं तो कहते हैं और वह मानते हैं कि मेरे माता-पिता मुझे अपनी गोद में नहीं बैठने सब कहते हैं कि आप भगवान उनके पिता है और इसी की वजह से आपकी गोद में बैठना है और भगवान उन्हें आशीर्वाद देते हैं और इसी की वजह से आज भी उतारा आसमान में चमक रहा है उत्तर दिशा में क्योंकि वह सब दृश्यों से भी ज्यादा श्रेष्ठ माने जाते हैं क्योंकि की गोद में बैठे हुए हैं।

YOU CAN ALSO READ

How to Reprogram Subconscious Mind in Hindi with 10 best Positive Affirmations

Final Words for 5 Amazing Facts about Dhruva Tara : Dhruva Tara Kahani in Hindi

हम आशा करते हैं कि आप लोगों कोई आर्टिकल पसंद आया होगा अपना कीमती वक्त निकालकर इसे पढ़ने के लिए धन्यवाद!

Leave a Comment