50 amazing Life Changing Stories : Danveer Karna Ki Katha Hindi Kahani

Danveer Karna Ki Katha Hindi Kahani : दानवीर कर्ण हम बचपन से दानवीर कर्ण की कहानियां सुनते आते हैं हमें बताया जाता है कि दानवीर कर्ण इतने अच्छे इंसान थे और वह दान धर्म करते थे पर उन्होंने अपने क्रोध वर्ष गलत लोगों का साथ दिया इसी की वजह से उन्हें महाभारत में एक ऐसे इंसान के तौर पर जाना जाता है कि जो अच्छे तो थे पर साथ गलत होने की वजह से इतिहास उन्हें भी गलत मानता है श्री कृष्ण खुद उनकी दानवीरता के बहुत प्रशंसक थे ।

Danveer Karna Ki Katha Hindi Kahani

Danveer Karna Ki Katha Hindi Kahani

और अर्जुन को इस बात से कहीं ना कहीं निराशा भी थी कि दान तो अर्जुन और युधिष्ठिर भी करते थे पर श्री कृष्ण कभी भी उनकी तारीफ नहीं करते थे तो चलिए आज की इस कहानी संग्रह में हम आप लोगों के लिए एक ऐसी ही कहानी लेकर आए हैं जिसमें आपको पता चलेगा की दानवीरता किसे कहते हैं और क्यों कारण को दानवीर सबसे बड़ा माना जाता है इस कहानी के माध्यम से हम आप लोगों को बताने का प्रयास करेंगे।

Danveer Karna Ki Katha Hindi Kahani

Danveer Karna Ki Katha Hindi Kahani

ये कहानी उस वक्त की है जब एक बार की बात है अर्जुन के दरबार में एक ब्राह्मण आया और ब्राह्मण ने विलाप करते हुए अर्जुन को बताया कि उसकी पत्नी की मृत्यु हो गई है और उसे चंदन की लकड़ी चाहिए अपनी पत्नी की मृत शरीर को मुखाग्नि देने के लिए अब अर्जुन ने अपने मंत्री को बुलाया और उनसे कहा कि राजकोष में से चंदन की लकड़ियां निकाल कर इन्हें दे दीजिए अर्जुन हमेशा श्री कृष्ण सवाल पूछा करते थे ।

Danveer Karna Ki Katha Hindi Kahani

कि क्यों आप उनकी प्रशंसा नहीं करते और क्यों युधिस्टर और अर्जुन के दान करने के बावजूद हमेशा कर्ण की प्रशंसा श्री कृष्ण भगवान करते थे अर्जुन के इस सवाल पर श्री कृष्ण मुस्कुराया और उन्होंने कहा कि इस सवाल का जवाब भी तुम्हें जल्द ही मिल जाएगा और जैसे ही मंत्री लौट कर आया तो मंत्री ने कहा कि ना तो राजकोष में चंदन की लकड़ियां बची है और ना ही पूरे राज्य में कहीं चंदन की लकड़ियां है इस बात को सुनकर अर्जुन को अचंभा हुआ

Danveer Karna Ki Katha Hindi Kahani

Danveer Karna Ki Katha Hindi Kahani

और फिर से उन्होंने मंत्री को भेजा कि आप जाइए और कहीं ना कहीं से तो चंदन का इंतजाम कीजिए पर अगली बार भी मंत्री निराश और खाली हाथ ही लौटे और उन्होंने कहा कि पूरे राज्य में चंदन की लकड़ी या कहीं भी नहीं है इस पूरे वाख्य को श्री कृष्ण भगवान देख रहे थे और अर्जुन ने हाथ जोड़कर क्षमा मांगते हुए ब्राह्मण से कहा कि आपके लिए चंदन कि लकड़ी का इंतजाम में नहीं कर पाया मुझे क्षमा कीजिए श्री कृष्ण ने जब यह सारा वाख्या आकर देखा तो

Danveer Karna Ki Katha Hindi Kahani

उन्होंने ब्राह्मण से कहा कि आप मेरे साथ में चलिए मैं एक जगह ऐसी जानता हूं जहां पर आपको यह मिल सकती हैं और अर्जुन ने और श्री कृष्ण भगवान ने एक ब्राह्मण का वेश धारण किया और वह उन ब्राह्मण के साथ में दानवीर कर्ण के पास पहुंचे करण ने भी अपने मंत्री को आदेश दिया कि आप जाइए और ब्राह्मण के लिए चंदन की लकड़ियों का इंतजाम कीजिए दानवीर कर्ण की बात सुनकर उनके मंत्री गए और

Danveer Karna Ki Katha Hindi Kahani

उन्होंने पूरे में छान मारा पर चंदन की लकड़ी या कहीं नहीं मिले इस बात को आकर उन्होंने करण को बताया और करण को बताने के बाद वह बोले कि पूरे राज्य में कहीं भी लकड़ियां नहीं है महाराज अब आप ही बताइए कि हम कैसे इसका इंतजाम करें इस बात को सुनकर कांड ने बोला कि हमारे राज्य में जो चंदन के खंभे लगे हुए हैं उसे तोड़कर आप इन ब्राह्मण को लकड़ी दीजिए यह बात सुनकर श्री कृष्ण भगवान मुस्कुराए और अर्जुन की तरफ देखने लगे

Danveer Karna Ki Katha Hindi Kahani

Danveer Karna Ki Katha Hindi Kahani

और राज्य से बाहर आकर अर्जुन से कहने लगे कि देखो तुम्हारे पास भी यह मौका था तुम्हारे राज्य में भी तुम्हारे महल में भी चंदन के खंभे बने हुए हैं और तुमने उस ब्राह्मण को निराश किया और वहीं दूसरी ओर करण था जिसने अपने महल के खंभों को तुड़वा कर ब्राह्मण को ना निराश करते हुए अपनी दानवीरता का परिचय दिया और उसे चंदन की लकड़ी देकर विदा किया इस बात को देखकर अर्जुन को अपनी गलती का एहसास हो चुका था और वह मान चुके थे कि सच में कारण ही सच्चे दानवीर हैं और सबसे बड़े दानवीर है

Danveer Karna Ki Katha Hindi Kahani

YOU CAN ALSO READ

Meditation Kya Hai Aur Kaise Karen-Meditation Ek Adat in Hindi: 2 best Focus Points Of Meditation

50 amazing Life Changing Stories : Danveer Karna Ki Katha Hindi Kahani

इस कहानी से हमें यह शिक्षा मिलती है कि हमें अपने जीवन में दान धर्म करना चाहिए क्योंकि दान ही सबसे बड़ा धर्म है और दान वह नहीं होता जो आप समृद्धि स्थिति में करते हैं बल्कि असली दान तो वह होता है जब आपके पास भी अभाव हो और आप से कोई दान मांगने आए और उसकी आपसे भी बुरी अवस्था हो और आप अपनी दयनीय अवस्था होने के बावजूद भी उसे दान में वह चीज दे रहे हैं जिसकी कमी या अभाव आपके पास पहले से ही है।

Leave a Comment