50 amazing Life Changing Stories : Chor Ki Dadi mein Tinka Hindi Kahani

Chor Ki Dadi mein Tinka Hindi Kahani : हम सभी अकबर और बीरबल की कहानी सुनते आ रहे हैं और हमें यह भी पता है कि अकबर और बीरबल की कहानी बहुत दिलचस्प होती थी अकबर के नवरत्नों में से एक थे बीरबल बीरबल बहुत ही चतुर व्यक्ति थे बीरबल की बुद्धि की दाद अकबर भी देते थे और अकबर भी उनकी बुद्धि कौशल की वजह से उनसे काफी प्रभावित रहते थे अकबर के जीवन में बीरबल का बहुत बड़ा योगदान था बीरबल हर वक्त अकबर को राय दिया करते थे

Chor Ki Dadi mein Tinka Hindi Kahani

Chor Ki Dadi mein Tinka Hindi Kahani

और अकबर को बहुत सारी परेशानियों वाली जगहों पर बीरबल ने मदद करते हुए बाहर निकाला अपनी बुद्धि की वजह से तो आज के इस कहानी संग्रह में हम आप लोगों के लिए कैसे ही दिलचस्प कहानी लेकर आए हैं जो कि अकबर और बीरबल की है और इस कहानी के माध्यम से हम आपको यह भी बताएंगे कि कैसे इस कहानी से हमें शिक्षा मिलती हैं जो कि हमारे जीवन में काफी ज्यादा फायदेमंद साबित होती है हमारे लिए बिना किसी देरी के हम आप लोगों को अकबर और बीरबल की कहानी सुनाते हैं और बताते हैं कि कैसे चोर की दाढ़ी में तिनका से चोर पकड़ा गया।

Chor Ki Dadi mein Tinka Hindi Kahani

Chor Ki Dadi mein Tinka Hindi Kahani

जैसा कि हम सब जानते हैं कि अकबर एक बहुत बड़े शासक थे और उन्हें बहुत महंगे महंगे वस्त्र महंगी महंगी चीजें पहनना पसंद आता वह हीरो जवारा तो से जुड़े आभूषण पहनते थे उनमें से उनकी एक बहुत बेस्ट कीमती अंगूठी थी जो अकबर को बहुत ज्यादा पसंद थी अकबर को वह अंगूठी इतनी पसंद थी वह उन्होंने अपने लिए बनवाई थी

Chor Ki Dadi mein Tinka Hindi Kahani

Chor Ki Dadi mein Tinka Hindi Kahani

क्योंकि उस अंगूठी की इतनी ज्यादा चमकते कि यदि कोई व्यक्ति उसे सामने से देख ले तो उसकी आंखें ही चली आ जाए अकबर और बीरबल की कहानी से हमें काफी कुछ सीखने को मिलता है और इस कहानी से भी हमें जरूर कुछ ना कुछ सीखने को मिलेगा है तो इस कहानी में आगे यह होता है कि अकबर को एक अंगूठी बहुत ज्यादा पसंद होती है और उस अंगूठी को अकबर कहीं रखकर भूल जाते हैं अकबर को ऐसा लगता है कि वह अंगूठी कहीं रखकर भूल गए हैं

Chor Ki Dadi mein Tinka Hindi Kahani

और वह उस चीज को लेकर काफी दिनों तक चिंतित घूमते रहते हैं एक बार की बात है जब बीरबल बीरबल से रहा नहीं गया और बीरबल ने पूछ लिया कि महाराज आप इतने चिंतित क्यों हैं अकबर ने जवाब देते हुए कहा कि बीरबल मेरी एक अंगूठी जो कि तुम भी जानते हो मेरे को कितने प्रिय थी वह मैं कहीं भूल गया हूं और वह खो गई है बीरबल को पहले

Chor Ki Dadi mein Tinka Hindi Kahani

Chor Ki Dadi mein Tinka Hindi Kahani

तो सुनने में बड़ा अटपटा लगा कि कैसे महाराज के अंगूठी खो सकती है और बीरबल ने पूछा कि आखिरी बार आपने वह अंगूठी कब उतारी थी हस्ते माल की थी नहाने के वक्त अंगूठी को उतारकर अलमारी में रख कर गया था और वह वहां पर नहीं थी मुझे ऐसा लगा कि मैं कहीं और भूल गया मैंने बहुत याद करने का प्रयास किया पर मुझे अंगूठी नहीं मिली अकबर बीरबल में आ चुका था कि

Chor Ki Dadi mein Tinka Hindi Kahani

अंगूठी कहीं कोई नहीं है बल्कि वह चुरा ली गई है अकबर से बीरबल ने आग्रह किया कि वह पांचो सैनिकों को बुलाया जाए जो उस वक्त तैनात थे और उनसे पूछताछ करने पर बीरबल ने उनसे कहा कि यह तो आप लोग स्वयं ही बता दें कि अंगूठी किसने चोरी की है अन्यथा मैं अलमारी से ही पूछ लूंगा की अंगूठी किसने चोरी की और यह कहकर बीरबल अलमारी से खुश खुश खुश आने लगे और अलमारी की तरफ कान कर कर वह मुस्कुराने लगे अलमारी की तरफ काम करने का बीरबल का यह उद्देश्य था कि ऐसा प्रतीत हो की अलमारी बीरबल से कुछ कह रही है इसके बाद बीरबल ने कहा कि अलमारी ने

Chor Ki Dadi mein Tinka Hindi Kahani

मुझे बताया है कि जिस भी व्यक्ति ने चोरी की है उस चोर की दाढ़ी में तिनका है और यह बात सुनकर 5 सैनिकों में से एक सैनिक इधर-उधर अपनी दाढ़ी में हाथ फेरने लगता है और इसी की वजह से बीरबल उसे देख लेते हैं और वह पकड़ा जाता है और जब वह पकड़ा जाता है तो वह हाथ पैर जोड़ने लगता है अकबर के और शमा मांगने लगता है उसे कारागार में डलवा देते हैं और बीरबल की समझदारी से बहुत ज्यादा खुश होते हैं और बीरबल को शाबाशी देते हैं।

YOU CAN ALSO READ

50 amazing Life-Changing Stories: Raja Parikshit Story Hindi Kahani

Chor Ki Dadi mein Tinka Hindi Kahani

50 amazing Life Changing Stories : Chor Ki Dadi mein Tinka Hindi Kahani

इस कहानी से हमें यह शिक्षा मिलती है कि हमें अपने जीवन काल में कभी भी गलत काम नहीं करना चाहिए यदि हम गलत काम करते हैं तो हमें पूरी जिंदगी उसका खामियाजा उठाना पड़ता है हमारी कॉल लालच में आकर कभी भी किसी प्रकार का गलत काम नहीं करना चाहिए यदि हम किसी प्रकार का गलत काम करते हैं तो अंत में वह हमारे लिए ही कष्टकारी होता है और उसका कष्ट हमें जीवन भर उठाना पड़ता है।

Leave a Comment