5 Best Inspirational Quotes of Premchand: Munshi Premchand Biography in Hindi

हिंदी साहित्य की बात जब भी आती है तो एक नाम जो हमेशा सबसे पहले लिया जाता है वह है Munshi Premchand का नाम । जी हां वही Munshi Premchand जिनके बारे में हम स्कूलों की पाठ से लेकर बड़े-बड़े उपन्यास तक पढ़ते हैं और हर बार हर एक कथा हर एक लाइन उनकी हमें विस्मय में डालते हैं। तो आज हम बात करेंगे Munshi Premchand Biography in Hindi की । आपको इस आर्टिकल के माध्यम से हम बताएंगे कि munshi premchand के 5 Inspirational Quotes कौन से थे जिसकी मदद से आप अपने जीवन पर positive तरीके से प्रभाव डाल सकते हैं ।

5 Best Inspirational Quotes of Premchand: Munshi Premchand Biography in Hindi

उसी के साथ साथ इस आर्टिकल में आज हम चर्चा करेंगे कि munshi premchand के कौन से विख्यात कार्य थे और लेखन थे जिन्हें आज भी दुनिया में जाना जाता है।तो चलिए शुरू करते हैं इस आर्टिकल में आपको बताना कि वह कौन से 5 Inspirational Quotes थे मुंशी प्रेमचंद के और इसी के साथ साथ हम मुंशी प्रेमचंद की व्यक्तिगत जीवन के बारे में भी चर्चा करेंगे । आप लोगों को कुछ अनछुए पहलू के बारे में बताएंगे जो मुंशी प्रेमचंद से जुड़े थे और जिनके बारे में शायद आप नहीं जानते हो।

Munshi Premchand Biography(मुंशी प्रेमचन्द की जीवनी)

तो इस इन महान कहानीकार का जीवन बहुत ही दिलचस्प रहा और इनके जीवन की शुरुआत हुई सन अट्ठारह सौ अस्सी 31 जुलाई को जो कि वाराणसी के पास लमही नाम के गांव में शुरू हुए मतलब मुंशी प्रेमचंद का जन्म लमही गांव में हुआ और उन्होंने 7 साल की उम्र में मदरसे में अपनी पढ़ाई शुरू की उन्होंने उर्दू भाषा और प्रश्न भाषा मदरसे में सीखी और जब उनकी उम्र 8 साल की थी तब उनकी माता जी की मृत्यु हो गई और उन्होंने अपना जीवन और उनकी परवरिश उनकी दादी नहीं करें मुंशी प्रेमचंद की मृत्यु सन 1936 में बनारस में हुई और सालों में जो मुंशी प्रेमचंद ने किया वह बहुत ही सराहनीय था।

Munshi Premchand Biography(मुंशी प्रेमचन्द की जीवनी)

Munshi Premchand की लिखी कहानियों को लोग इसलिए भी सराहते थे क्योंकि मुंशी प्रेमचंद की हर एक कहानी में एक अपनापन सा होता था । लोगों को ऐसा लगता था कि यह उनकी ही कोई कहानी हो । उन्होने बहुत सारी कहानी लिखे जिनमें से कुछ अगर हम बताएं तो वह थी गोंडा ,बाजार ए हुस्न ,कर्मभूमि ,शतरंज के खिलाड़ी गबन ,ईदगाह और यह list बहुत ही लंबी चली जाती है। क्योंकि उनका हर एक लफ्ज़ हर एक कहानी इतनी बेहतरीन होती थी कि हम बेहतर बताएं यह कहना बहुत मुश्किल हो जाता था।

Top 5 Inspirational Quotes of Premchand

वैसे तो Munshi Premchand का जीवन चरित्र ही बहुत ज्यादा प्रेरित करने वाला था। आज के इस आर्टिकल के माध्यम से हम लोग उन 5 Inspirational Quotes के बारे में बात करेंगे जिन्होंने बहुत ज्यादा विख्याती पाई। उसी के साथ साथ वह किसी भी प्रकार के व्यक्ति को प्रेरित करने के लिए सक्षम थे और उनके कुछ ऐसे ही quotes हम आज आप लोगों के लिए लेकर आए हैं जो किसी भी व्यक्ति को कुछ ही पलों में प्रेरित करने की क्षमता रखते हैं । तो चलिए एक-एक करके हम जानते हैं कि वह कौन से 5 Inspirational Quotes है मुंशी प्रेमचंद के जो हमें प्रेरित करते हैं।

Top 5 Inspirational Quotes of Premchand

1) कुल की प्रतिष्ठा भी विनम्रता और सर व्यवहार से होती है हेकड़ी और जवाब दिखाने से नहीं।


2) मन एक भीरू शत्रु है जो सदैव पीठ के पीछे से वार करता है।


3) आकाश में उड़ने वाले पंछी को भी अपने घर की याद आती है।

Top 5 Inspirational Quotes of Premchand


4) जिस साहित्य से हमारी सुरुचि ना जागे आध्यात्मिक और मानसिक तृप्ति ना मिले हम में गति और शक्ति ना पैदा हो हमारा सौंदर्य प्रेम ना जागृत हो जो हमें संकल्प और कठिनाइयों पर विजय प्राप्त करने की सच्ची दृढ़ता ना उत्पन्न करें वह हमारे लिए बेकार है वह साहित्य कहलाने का अधिकारी नहीं है।


5) मनुष्य कितना हृदय हीन हो उसके ह्रदय में किसी ना किसी कोने में पराग की भांति रस छिपा रहता है जिस तरह पत्थर में आज छुपी रहती है उसी तरह मनुष्य के हृदय में भी चाहे कितना भी क्रूर क्यों ना हो उत्कृष्ट और कोमल भाव छिपे रहते हैं

You Can Also Read

Important Things Related to Holi festival 2022 in Hindi

Best 5 Benefits of Auricular Therapy in Hindi

FAQ Related To 5 Best Inspirational Quotes of Premchand: Munshi Premchand Biography in Hindi

Who is the father of Premchand?(Premchand के पिता कौन थे?)

मुंशी प्रेमचंद के पिता का नाम अजैब राय था। मुंशी प्रेमचंद उनकी चौथी संतान थी और मुंशी प्रेमचंद का नाम रखा गया धनपत राय। Munshi Premchand की माता जी का नाम आनंदी देवी था और वह ग्रहणी थीं।

What is the Childhood name of Premchand?(मुंशी प्रेमचन्द के बचपन का नाम क्या था?)

Munshi Premchand के बचपन का नाम धनपत राय था यह नाम उन्होंने बदलकर अपना मैंने मुंशी प्रेमचंद रखा था और शुरुआत में मुंशी प्रेमचंद अपनी कविताओं को अपने लेखन को धनपत राय के नाम से ही लिखा करते थे पर बाद में उन्होंने यह बदलकर मुंशी प्रेमचंद कर दिया था।

Which story of Premchand is Famous?(Premchand की कौनसी कहानी प्रचिलित है?)

वैसे तो मुंशी प्रेमचंद की बहुत सारी कहानियां प्रचलित है पर सबसे ज्यादा प्रचलित कहानी कि यदि हम बात करें तो वह है ईदगाह , Godan प्रेमचंद के जूते।

Final Words for 5 Best Inspirational Quotes of Premchand: Munshi Premchand Biography in Hindi

इस Article के माध्यम से आज हम लोगों ने मुंशी प्रेमचंद्र की जीवनी के बारे में आप लोगों को बताया। इस आर्टिकल में आज हम लोगों ने Munshi Premchand Biography in Hindi के बारे में चर्चा की। उसी के साथ साथ इस आर्टिकल के माध्यम से आज हम लोगों ने आपको मुंशी प्रेमचंद के उन पांच inspirational quotes के बारे में बताया जिनकी मदद से कोई भी व्यक्ति अपने जीवन में प्रेरित हो सकता है।

इस आर्टिकल के माध्यम से आज हम लोगों ने मुंशी प्रेमचंद के पारिवारिक जीवन के बारे में भी आप लोगों को अवगत करवाया। हम आशा करते हैं कि इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आप लोग मुंशी प्रेमचंद को और बेहतर तरीके से जान पाए होंगे और उनसे जुड़े सारे सवालों के जवाब आपको मिल गए होंगे। हम आशा करते हैं कि आप लोगों को यह आर्टिकल पसंद आया होगा और आपने अपना कीमती वक्त निकालकर इसे पाना इसके लिए बहुत-बहुत धन्यवाद!

Leave a Comment