Why Independence Day is Celebrated on 15 August and its Importance in Hindi

वंदे मातरम , सरफरोशी की तमन्ना जैसे आप गीत या फिर Poem Independence Day के दिन हर गली हर चौबारे पर आपको बचते हुए सुनने को मिलते हैं ।जब भी Independence Day आया करता है तो गली का बच्चा बच्चा आपको आजादी के जश्न में झूमता हुआ मिलता है और झूमे भी क्यों ना यह दिन है ही इतना खास।

क्या आपने कभी सोचा है कि आजादी से पहले की जिंदगी को सुनकर हमारे रोंगटे खड़े हो जाते हैं तो जो लोगों ने वह गुप्ता है तो उन पर क्या ही बिजी होगी और फिर हमारे देश के बहुत ही होनहार लोगों ने अपने खून पसीना एक कर कर लड़ाइयां लड़के हमें आजादी दिलाई है ।

तो हम जश्न मनाए भी क्यों ना और यह जश्न इतना भव्य होना भी चाहिए ताकि पूरी दुनिया को यह पता चल जाए कि अब भारत देश आजाद है और इसे कोई भी अपने इशारों पर नहीं नचा सकता । Independence day हर साल 15 August  गर्म जोशी से मनाया जाता है ।

जैसा कि हम सब जानते ही हैं कि इस दिन की महत्वता हमारे देश के लिए कितनी है । इस दिन को मनाने मात्र के लिए ना जाने कितने लोगों ने अपनी जाने गवाही हैं । ना जाने कितनी लड़ाइयां लड़ी है।

Why Independence Day is Celebrated on 15 August and its Importance in Hindi
Why Independence Day is Celebrated on 15 August and its Importance in Hindi


बहुत लोगों के मन में यह सवाल भी होता है कि Independence Day और Republic Day के बीच में अंतर क्या हुआ करता है तो इस Article की मदद से हम आज यह Doubt भी क्लियर करने की कोशिश करेंगे। आपको यह भी बताएंगे की आजादी की लड़ाई कब कहां और किसने शुरू की थी। तो आज हम सब इस Article के माध्यम से यह जानने की कोशिश करेंगे |

कि आजादी हमें मिली कैसे और हम Independence Day को 15 अगस्त को क्यों मनाते हैं । हम इस Article की मदद से आप लोगों तक यह बात भी पहुंचाने की कोशिश करेंगे कि किन-किन स्वतंत्रता सेनानियों ने हमें Independence Day मनाने के काबिल बनाया और क्या-क्या Sacrifices उन्होंने दिए तो चलिए शुरुआत करते हैं फिर।

Table of Contents

What is the Meaning of Independence Day (Independence Day का मतलब क्या होता है )

प्रत्येक इंसान के जीवन में आजादी या फिर इंडिपेंडेंस का महत्व बहुत ही हुआ करता है Independence Day का मतलब कुछ नहीं हूं समझे कि वह दिन जिस दिन हमें आजादी मिली थी अब बारी आती है कि आजादी की परिभाषा क्या है तो इसको जानने के लिए चलिए आपको उन गलियारों में लेकर चलते हैं जब हमारा देश आजाद नहीं हुआ करता था ।

What is the Meaning of Independence Day
What is the Meaning of Independence Day

उसके लिए आपको उस वक्त में जाना होगा जिस वक्त में गली चौराहों पर लोग डरे सहमे से काम किया करते थे अपने मन की ना कह पाते थे ना अपने मन का कर पाते थे उन्हें यही डर सताया करता था कि यदि अंग्रेज आ गए तो ना जाने उन पर नहीं क्या विपदा आ पड़ेगी Independence Day का मतलब यही है |

उन सारी चीजों से आजादी आजादी अपनी बात को रखने की आजादी खुली हवा में सांस लेने की आजादी अपने पक्ष को निडर होकर सामने रखने की और आजादी अपना नेता चुनने की आजादी अपने लिए रूल्स बनवाने की और आजादी अपने देश में अपनी तरीके से रहने की Independence Day का मतलब यही है |

Independence Day एक ऐसा दिन या फिर यूं कहिए एक ऐसा Moment है जिसको मनाने के लिए हमारे देश के लोगों ने न जाने कितने सालों संघर्ष किया।  उसी संघर्ष का नतीजा है Independence Day जिसको हम मनाते हैं और इस तरीके से और धूमधाम से मनाते हैं कि पूरे विश्व भर में लोग इसकी चर्चा किया करते हैं।


दरअसल कम लफ्जों में अगर हम इसे समझने का प्रयत्न करें तो Independence Day हमारे आजादी या फिर Independence की वर्षगांठ हुआ करती है। जिस दिन हमारे देश ने आजादी प्राप्त की थी अंग्रेजों से।

‌Why 15 August was Chosen as Indipendence Day ( 15 August को ही क्यों Indipendence Day के तौर पर चुना गया)

बहुत लोगों के मन में यह सवाल उठता है कि हम Independence Day 15 अगस्त को क्यों मनाते हैं बहुत सारी जगहों पर इस चीज के जवाब अलग-अलग तरीके से बताए गए हैं ।पर यदि हम इतिहास के पुराने पन्नों को पलट कर देखें तब हमें जान पड़ता है कि 15 अगस्त को Independence Day  क्यों मनाया जाता है। तो चलिए आज हम आपको उसी बारे में बताते हैं कि 15 अगस्त को Independence Day क्यों मनाया जाता है।

Why 15 August was Chosen as Indipendence Day
Why 15 August was Chosen as Independence Day


जब भी हम इतिहास के बारे में जानते हैं तो हमें पता चलता है कि 15 अगस्त एक ऐसा दिन था जिसमें इतिहास के पन्नों में स्वर्णिम अक्षरों से लिखा गया था कि British Rule अब खत्म हो गया है और हमारा देश भारत अब एक आजाद देश है । 1947 में 15 अगस्त को आजाद भारत की नींव रखी गई थी।


दरअसल 15 अगस्त 1947 को British Last Viceroy Lord Mountbatten ने Power Transfer की थी । दरअसल इससे पहले British Parliament से यह Notice आया था कि Lord Mountbatten अपनी पो को 30 जून 1948 से पहले Transfer कर देंगे पर उस समय सी राजगोपालाचारी कि वह बात आज भी लोग याद किया करते हैं कि अगर Lord Mountbatten ने या फिर British सरकार ने 1948 का इंतजार किया तो उनके पास कोई पावर बचेगी ही नहीं Transfer करने के लिए ।

 इसी को मद्देनजर रखते हुए Lord Mountbatten ने यह Decide किया कि वह अपनी Power को  1947 15 अगस्त को ही Transfer कर देंगे और ऐसा ही उन्होंने रात 12:00 बजे 15 अगस्त को किया । इसके पीछे भी एक दिलचस्प कहानी है लॉर्ड माउंटबेटन 15 अगस्त को बहुत ही शुभ दिन माना करते थे|

 क्योंकि इस दिन Japanese Force ने World War द्वितीय के वक्त में Alite Forces Surrender किया था और उस वक्त में Lord Mountbatten commander-in-chief  हुआ करते थे Alite Forces के । पर जब 15 अगस्त 1947 को Lord Mountbatten के Powers Transfer होने की बात उठी । तो बहुत सारे ज्योतिषियों ने इस दिन के कुछ समय को बहुत अशुभ बताएं । पर Lord Mountbatten इस बात पर अड़े रहे कि अगर Power Transfer होंगी तो 15 अगस्त को ही होंगी।

ज्योतिषियों के द्वारा इसका है यह उपाय निकाला गया कि 14 अगस्त और 15 अगस्त के बीच में रात 12:00 बजे अगर यह किया जाए तो यह शुभ हो सकता है । उसका दूसरा कारण यह भी था कि अंग्रेजी Calendar के हिसाब से दिन रात को 12:00 बजे से शुरू हो जाता है और हमारे हिंदू Calendar के हिसाब से वह शुरू होता है |

सूर्य उदय उदय के समय से तो इसी चीज को देख कर रात 12:00 बजे Lord Mountbatten ने अपनी Powers Indian Government को Surrender कर दी। इसीलिए 15 अगस्त को Indipendence Day हमारे देश में मनाया जाता है ।

How Indians Celebrate Independence Day? (भारतीय Independence Day कैसे मनाते हैं?)

जब भी Independence Day आया करता है तो लोग पूरे देश में इसे बहुत ही उत्सुकता से और खुशहाली से मनाया करते हैं। Independence Day हमारे देश में एक महोत्सव की तरह एक त्यौहार की तरह मनाया जाता है 15 अगस्त के दिन Independence Day जब भी आया करता है तो उस दिन स्कूलों में एक भव्य आयोजन रखा जाता है ।

How Indians Celebrate Independence Day
How Indians Celebrate Independence Day

सबसे पहले कार्यक्रम की शुरुआत होती है Flag Hosting से । Independence day एक ऐसा दिन है जिसमें हमारे देश के सभी स्कूल कॉलेजों में Patriotic Songs पर Dance किया जाता है। बहुत सारी अलग-अलग तरह की Activity हुआ  करतीं हैं।


पूरे देश में झंडारोहण का कार्यक्रम Patriotic Songs गाने का कार्यक्रम हुआ करते हैं। बहुत सारे स्कूलों में इस दिन आजादी के जश्न के इस कार्यक्रम मनाने के बाद में लड्डू भी बांटे जाते हैं किसी किसी जगह पर चॉकलेट्स भी बांटी जाती है कहीं पर Independence Day का जश्न मिठाई बांटकर मनाया जाता है। हमारे देश के प्रधानमंत्री भी लाल किले पर उस दिन Flag Host किया करते हैं|

 उसके बाद में परेड निकला करती है जो कि हमारे देश की सेनाएं और पुलिस के द्वारा आयोजित होती है इस परेड के बाद में हमारे देश के प्रधानमंत्री पूरे देश को संबोधित करते हैं और उनकी स्पीच टीवी पर Telecast की जाती है।पूरे देश में इस दिन छुट्टी हुआ करती है ।

चाहे वह कोई भी कंपनी हो स्कूल हो कॉलेज हो यह है National Holiday हुआ करती है। जिस दिन सब लोग सिर्फ आजादी का जश्न मनाया करते हैं और उसके सिवा और कुछ नहीं किया करते बहुत सारे हिस्सों में देश के उस दिन पतंगबाजी भी की जाती है ।जैसे कि दिल्ली में बहुत सारी जगहों पर रंग बिरंगी पतंगे उड़ाई जाती है और आसमान रंग बिरंगी पतंगों से ढका हुआ होता है।

‌What is the difference between Independence Day and Republic Day?(Independence Day और Republic Day में क्या अंतर होता है? )


तकरीबन हर दूसरे बंदे को इस बात में कन्फ्यूजन हुआ करता है कि Independence Day और Republic Day में अंतर क्या हुआ करता है । हम लोग बहुत बार Independence Day जिसे हम स्वतंत्रता दिवस के नाम से भी जानते हैं ।और उसके साथ साथ गणतंत्र दिवस या फिर Republic Day के बारे में भी सुना करते हैं। पर सबसे बड़ा असमंजस यहां पर आता है कि जब हम से कोई पूछता है कि दोनों में फर्क होता है तो होता क्या है। हम निशब्द हो जाते हैं ।

‌What is the difference between Independence Day and Republic Day
‌What is the difference between Independence Day and Republic Day

तो चलिए आज आपके इस कंफ्यूजन को दूर करते हैं और साफ और स्पष्ट शब्दों में यह बताते हैं कि इन दोनों Occasions में क्या फर्क होता है।तो सबसे पहले बात करते हैं Independence Day की Independence day हमारे देश में 15 अगस्त को मनाया जाता है और जैसा कि हमने ओपन भी बताया कि यह हमारे देश में इसलिए मनाया जाता है|

 क्योंकि इस दिन ब्रिटिश सरकार के Last Viceroy Lord Mountbettan ने अपनी पावर इंडियन गवर्नमेंट को ट्रांसफर की थी और भारत को आजादी मिली थी ब्रिटिश रूल से 15 अगस्त 1947 का वह ऐतिहासिक दिन था जिस दिन हमें अपने देश को स्वतंत्र देखने का मौका मिला।


यदि हम बात करें Republic Day की तो Republic Day हमारे देश में इसलिए मनाया जाता है क्योंकि उस दिन 1950 में हमारा Constitution Enforced हुआ था। मतलब हमारा जो संविधान है उसी ही दिन लागू हुआ था । जितने भी लोग हैं Constitution के उसी दिन से लागू हुए थे ।

 26 जनवरी के दिन की महत्वता इसलिए भी बहुत ज्यादा है क्योंकि इससे पहले हमारा खुद का अपना Constitution नहीं था। जिसकी वजह से हमारे देश में जो भी Rules And Regulations थे। वह British सरकार के ही माने जाते थे तो 1947 में हम आजाद तो हो गए थे पर हम अपने Constitution को बनाने में लगे हुए थे ।

26 January 1950 को हमारे Constitution को जब लागू किया गया तो उस दिन को मनाने के लिए हर साल हमारे देश में बहुत सारे आयोजन किए जाते हैं ।जैसे कि राजपथ पर Parade निकाली जाती है।  हर साल किसी और देश के मुख्य अतिथि हमारे 26 जनवरी की Parade  के लिए यहां आया करते हैं 26 जनवरी के दिन भी हमारे देश में छुट्टी हुआ करती है और स्कूल कॉलेजों में अलग-अलग आयोजन हुआ करते हैं।


वैसे तो हमारा Constitution 26 नवंबर 1949 में Draft हो गया था। पर इसे 26 जनवरी 1950 को इसलिए लागू किया गया क्योंकि रावी नदी के किनारे 26 जनवरी को ही हमारे देश में पहली बार यह संकल्प लिया गया था । कि हम आजादी की लड़ाई लड़ेंगे इसीलिए इस खास दिन को चुना गया ।इसी दिन हम Republic Day मनाया करते हैं।

यह दिन हमारे देश के नागरिकों को सम्मान प्रदान करने के लिए मनाया जाता है । उनके लिए जो भी Laws या फिर Rights बनाए गए हैं उस को सम्मानित करने के लिए मनाया जाता है । 26 जनवरी की Parade भी इसीलिए मनाई जाती है कि हम अपने देश की अखंडता और संप्रभुता को दिखा सके और उस Parade में हर एक झांकी में हमारे देश की संस्कृती और Power झलकती है।

Which Independence Day will be Celebrated in 2021 (2021 में कौन सा Independence Day मनाया जाएगा )

वर्ष 2021 में भारत मैं 75 वा Independence Day मनाया जाएगा। 15 अगस्त 2021 को हमारे देश में Independence Day मनाया जाएगा और उस दिन सारी चीजें वैसे ही की जाएंगी ।जैसे हर साल की जाती है मतलब इस बार भी हर बार की तरह हम अपने Independence Day धूमधाम से मनाएंगे । यह चीज भी निश्चित है कि अभी तक जिस गर्मजोशी से हमने इस दिन को मनाया है आगे भी आने वाले कई सालों तक हम इसे ऐसे ही मनाते रहेंगे ।

Which Independence Day will be Celebrated in 2021
Which Independence Day will be Celebrated in 2021

जैसा कि हमने बताया कि इस बार हम 75 वा Independence Day मनाएंगे ।तो उससे आप लोगों को इस बात का अंदाजा तो लग ही गया होगा कि हमें आजाद हुए 75 साल होने को आ गए हैं पर फिर भी ऐसा ही लगता है जैसे की है कल की ही बात हो। ऐसा ही लगता है कि कल ही आजादी की जंग छिड़ी हो ।

 कल ही हमने आजादी पाई हो क्योंकि गर्म जोशी को देखते हुए भारतीयों की यह जान पता ही नहीं है कि आजाद हुए हमें 75 साल हुए । हम आज भी इतने सालों बाद भी इस दिन को ऐसे ही मनाया करते हैं । जैसे कि यह हमारी पहली आजादी या फिर Independence की पहली वर्षगांठ हो।

Who started freedom fight for Independence of India ( भारत की आजादी की लड़ाई किसने शुरू की)

वैसे तो इतिहास के पन्नों को पलट कर जब हम देखते हैं तो हमारी आजादी में बहुत सारे लोगों का योगदान है कुछ लोग का नाम सामने है कुछ लोगों का नाम सामने नहीं है। अगर हम इसकी बात करते हैं कि भारत की आजादी की लड़ाई किसने शुरू की तो यह कहना बहुत मुश्किल हो जाता है कि किसी एक इंसान ने इस आजादी की लड़ाई को शुरुआत चिंगारी दी ।


पंजाबी हम इतिहास के बारे में पढ़ते हैं तो हमारे सामने कुछ तथ्य से निकल कर आते हैं जिसके जिससे हम कह सकते हैं कि इतिहास में हमारी आजादी की लड़ाई तीन मुख्य Independent Movement से शुरू हुई।जिसकी बागड़ोर  मोहनदास करमचंद गांधी जी ने उठाई जिन्हें हम Father of Nation या फिर बापू के नाम से भी जानते हैं ।

सबसे पहला Independence Movement उन्होंने शुरू किया सन् 1919 से लेकर 1922 तक जिसे नाम दिया गया NonCooperation Movement । जिसमें महात्मा गांधी जी ने सब से यह अनुरोध किया कि हम शांति पूर्वक और बिना किसी हिंसा के। ब्रिटिश या फिर उनकी बनाई हुई कोई भी चीज का बॉयकॉट करेंगे और हमारे इंडिया में ही बनी हुई चीजों का इस्तेमाल करेंगे।

उसके बाद दूसरा Movement Civil Disobedience Movement  के नाम से जाना जाता है।  इसको Salt Satyagraha भी कहते हैं जो की 1930-1931 तक चला । तीसरा Movement Quit India Movement  जो की 1940 से लेकर 1942 तक चला।
तो यही सारे वाक्य ऐसे हैं जिन्होंने आजादी की लड़ाई की चिंगारी को एक बड़ा रूप दिया और यहां से ही हमारा परिश्रम आजादी के लिए शुरू हुआ।

‌‌Which was the first freedom Struggle (आजादी के लिए सबसे पहला Freedom Struggle कोनसा था )


सन् 1857 Sipoy Mutinity शुरू हुआ
जिसको First War Of Indipendence भी कहा जाता है ।यह शुरू हुआ था मेरठ में जिसमें कुछ भारतीय सिपाही जो कि British East India Company  में कार्यरत थे। उनके द्वारा यह Movement शुरू हुआ और यह है मेरठ से शुरू होकर दिल्ली तक पहुंचा उसके बाद आगरा पहुंच कर इसने बहुत तूल पकड़ी।

 उसके बाद कानपुर और लखनऊ में भी इस मूवमेंट की वजह से काफी हंगामा हुआ और इसमें एक नाम जो हमारी जुबान ओं पर आज भी रहता है । वह सामने आया और वह है मंगल पांडे इनका इस Movement में बहुत बड़ा योगदान था। हमारी अपनी संस्कृति को बचाने के लिए यह बहुत ही अहम कदम था मंगल पांडे जी की तरफ से।


उन्होंने अपनी जान की बाजी लगाकर इस Movement की शुरुआत की और शायद इसीलिए मंगल पांडे को आज भी इतिहास में बहुत ऊपर रखा जाता है और उनका नाम स्वर्णिम अक्षरों से लिखा जाता है।
यह कहानी बहुत प्रचलित है कि मंगल पांडे ने ऐसा क्यों किया था क्योंकि हम सब जानते हैं कि एक दफा की बात है British Army के अंदर कुछ ऐसे कारतूस लाए गए। 

Our Recent Articles:-

  1. Hartalika Teej Vrat Katha 2021 ki Importance in Hindi
  2. Hartalika Teej 2021 कब मनाई जाएगी और किस राज्य में इसे कैसे मनाते हैं

जिसका Cartridges किसी जानवर की चर्बी से बना हुआ था । उन्होंने उसका कारतूस को इस्तेमाल करने से मना कर दिया था ।क्योंकि उस कारतूस को इस्तेमाल करने के लिए उससे पहले मुंह से फाड़कर बंदूक में भरना होता था । फिर बंदूक चलाई जा सकती थी। उन्होंने ऐसा करने से मना कर दिया और इसी के चलते उन्होंने British Officer पर भी हमला कर दिया था बैरकपुर के अंदर और बाद में उन्हे Arrest कर लिया गया ।

10 Popular Freedom Fighters ( Popular स्वतंत्रता सेनानी)

वैसे तो हमारी आजादी में योगदान बहुत सारे लोगों का है और यह बात हम बहुत बार दोहरा चुके हैं इस आर्टिकल में यह कहना बिल्कुल भी लाजमी नहीं होगा कि यह आजादी हमारे किसी एक व्यक्ति विशेष की वजह से मिली है इस आजादी को जो हम मना रहे हैं जो Independence Day हम आज के वक्त में मनाते हैं वह सिर्फ और सिर्फ बहुत सारे लोगों की देन है उनमें से कुछ नाम जिन्होंने इतिहास में बहुत गहरी छाप छोड़ी है वह है।

1) Nana Sahib
2) Tantia Tope
3) Sardar Vallabhbhai Patel
4) Mahatama Gandhi
5) Lal Bahadur Shastri
6) Subhash Chandra Bose
7) Rani Lakshmi Bai
8)Sukhdev

9) Bhagat Singh
10) Chandra Shekhar Azad

इनके अलावा भी बहुत नाम ऐसे हैं जिन्होंने आजादी दिलाने में बहुत बड़ा योगदान दिया है और जिनकी वजह से ही हम आज के वक्त में Independence Day मनाने में सक्षम है।

Who was Mangal Pandey and what he did for freedom (मंगल पांडे कोंन थे और आजादी में उनका क्या योगदान था )

मंगल पांडे का जन्म 19 जुलाई 1827 में अकबरपुर में हुआ था और रोबोट ब्रिटिश आर्मी में कार्यरत थे और वह भारतीय सैनिक जो अंग्रेजों की तरफ से सेना में लड़ा करते थे। अट्ठारह सौ सत्तावन की बात है जब मंगल पांडे न एसे फॉर ए मूवमेंट को शुरुआती चिंगारी भी यह भारत का पहला War Of Independence भी कहा जाता है मंगल पांडे एक ऐसे सैनिक थे जिन्होंने British Officer पर Attack कर दिया था और जिसकी वजह से उन्हें 29 मार्च 1857 को जेल हो गई थी|

  बाद में फांसी दे दी गई थी मंगल पांडे का योगदान हमारी आजादी की लड़ाई में इसलिए भी बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण था क्योंकि सबसे पहले कि उन्होंने आवाज उठाई थी और अंग्रेजों के जहन में डर बिठाया था कि हम भारतीय भी अपनी आवाज उठा सकते हैं और अपने हक के लिए और आजाद होने के लिए लड़ सकते हैं मंगल पांडे को बैरकपुर में फांसी दे दी गई थी |उनकी मृत्यु 8 अप्रैल 1857 में हुई थी।


इतिहास आज भी मंगल पांडे को बहुत ही इज्जत के साथ जानता है और उनका दर्जा आज भी बहुत ही ऊंचा रखा जाता है । मंगल पांडे एक ऐसा नाम है जिनको आज भी इतिहास के पन्नों में स्वर्णिम अक्षरों से लिखा जाता है और जब भी हमारे Independence Day की बात होती है । या हमारी आजादी की बात होती है तो उनका नाम सबसे पहले लिया जाता है ।

 उनको इसी सोच के साथ याद किया जाता है कि मैं हमारे सबसे पहले स्वतंत्रता सेनानी थे।  शायद उस वक्त में वह आवाज नहीं उठाते तो बहुत सारे लोगों में यह उत्साह और डर खत्म नहीं होता । हम ब्रिटिशर्स को हरा नहीं सकते या अपने हक की लड़ाई लड़ नहीं सकते।

Note – इस Article में बताई गई सारी बातें पूर्णता Research Based हैं। इसमें दी गई सारी जानकारी सूचना प्रदान करने के लिए ही हैं ।इन जानकारियों को यदि आप किसी और चीज के लिए इस्तेमाल करते हैं तो वह अपने विवेक से ही करें इसमें हमारी कोई जवाबदारी नहीं होगी।

FAQ Related To Why Independence Day is Celebrated on 15 August and it’s Importance

When did India got it’s Independence? (भारत को आजादी कब मिली थी ?)

भारत को आजादी 15 अगस्त 1947 में मिली थी और इसी दिन को हम Independence Day ke तौर पर हर साल धूमधाम से मनाते हैं और इस वर्ष 2021 में हम अपना 75 वा Independence Day मनाने जा रहे हैं।

How many years Britishers ruled on India? ( अंग्रेजो ने India पर कितने साल राज किया? )

अंग्रेजों ने भारत देश पर तकरीबन 200 साल तक राज किया है इसी बीच उन्होंने बहुत सारी प्रताड़ना भी हमारे भारत देश वासियों को दी थीं। उसी से आजाद होकर 15 अगस्त 1947 को हमने अपना Independence Day पहली बार मनाया था ।

‌How we celebrate Independence Day? (Independence Day कैसे मनाया जाता है? )

15 अगस्त को हम जब भी अपना Independence Day मनाते हैं तो उस दिन पूरे देश में छुट्टी हुआ करती है और स्कूल कॉलेज में अलग-अलग जगह पर प्रोग्राम आयोजित किए जाते हैं उसके साथ ही हमारे प्रधानमंत्री लाल किले पर झंडा फहरा कर स्पीच दिया करते हैं तो इसी प्रकार पूरे देश में Independence Day मनाया जाता हैं।

15 August 1947 was the Independence day of Which Country? ( 15 अगस्त 1947 किस देश का स्वतंत्रता दिवस था? )

15 अगस्त 1947 को भारत देश आजाद हुआ था और तभी से इस दिन को Independence Day के तौर पर मनाया जाता है और इस दिन को मनाते हुए 74 साल पूरे हो चले हैं और 2021 में हम भारत देश में 75 वा Independence Day मनाएंगे।

‌Who was shahed Bhagat Singh ji? (शहिद भगत सिंह जी कौन थे? )

शहीद भगत सिंह एक स्वतंत्रता सेनानी थे जिनको शहीद-ए-आजम के नाम से भी जाना जाता है और 23 मार्च 1971 को उन्हें फांसी मिली थी क्योंकि उन्होंने एक ब्रिटिश पुलिस ऑफिसर पर हमला किया था शहीद भगत सिंह एक ऐसे शख्स थे जिन्होंने हंसते-हंसते अपने देश के लिए जान कुर्बान कर दी थी

Final Words For Why Independence Day is Celebrated on 15 August and it’s Importance

जैसा कि हम सब लोग जानते ही हैं कि इस साल भी हर साल की तरह Independence Day 15 अगस्त को मनाया जाएगा। इस  आर्टिकल की मदद से हम ने आप तक यह पहुंचाने की कोशिश की है । कि हम अपना Independence Day क्यों मनाते हैं।  उसके मायने भी हमने आप लोगों से साझा करने की कोशिश की है ।

इस Article की मदद से हमने आप लोगों तक यह भी पहुंचाया की हमारे Independence Day की खासियत और उसका महत्व क्या है।  इस Article की मदद से हमने यह भी जाना कि Republic Day और Independence Day में क्या फर्क होता है तो इस Article के मदद से हम लोगों ने आज आपको अपने Independence Day से जुड़ी सारी बातों से रूबरू करवाया। 

 आप लोगों को उसकी अहमियत के बारे में भी बताने की कोशिश करें हम लोगों ने अपने स्वतंत्रता सेनानियों को भी इस Article की मदद से याद किया । हम आशा करते हैं कि आप लोग भी उन्हें उस ही इज्जत और सम्मान के साथ में याद करते होंगे। 

जिस इज्जत और सम्मान के साथ में हम ने इस Article में उन्हें याद किया । आशा है आप सब लोगों को या Article पसंद आया होगा और हम आपके दिलों को इस Article की मदद से छू पाए |


अपना कीमती वक्त निकालकर इस Article को पढ़ने के लिए अपना कीमती वक्त निकालकर इस Article को पढ़ने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद !
आप सब को पूरे Tajmindpower के परिवार की तरफ से Independence Day की हार्दिक शुभकामनाएं
जय हिंद!

Leave a Comment