How to do Tratak Meditation in Hindi and its 5 Easy steps

Tratak Meditation एक ऐसी Meditation Technique है जिसके बारे में विस्तार से बहुत कम ही जगह चर्चा की गई है । तो आज इस Article How to Do Tratak Meditation की मदद से हम यह जानने का प्रयास करेंगे कि Tratak Meditation कैसे कर सकते हैं इस Article के माध्यम से हम आप लोगों को यह भी बताने का प्रयास करेंगे कि Tratak Meditation होता क्या है । इसके फायदे क्या क्या है और बहुत सारे सवालों के जवाब इस Article के माध्यम से आपको मिल जाएंगे जैसे कि हमें Tratak Meditation का अभ्यास क्यों करना चाहिए । और भी बहुत सारे ऐसे ही सवालों के जवाब आपको इस Article में मिलेंगे।

त्राटक मेडिटेशन कैसे करें? How do the Tratak Meditation?

Tratak Meditation
Tratak Meditation
  1. किसी बैठने वाले आसन में बैठ जाए
  2. पीठ, गर्दन बिल्कुल सीधा हो
  3. 5 मिनट तक शरीर को ना हिलाएं
  4. हाथ घुटनों पर रखकर ध्यान मुद्रा में रखें |
  5. जिस वस्तु का त्राटक किया जा रहा है उसकी दूरी आपके शरीर से एक से डेढ़ फीट की हो उस वस्तु की ऊंचाई आपकी नजर के बिल्कुल सीध में हो जिसे शरीर को कष्ट ना हो ।

जरूर पढ़ें:-

10 Amazing Candle Meditation Benefits in Hindi

ध्यान रहे वेसे तो कहा जाता है कि त्राटक में किसी मोमबत्ती की लौ को निरंतर देखा जाता है| लेकिन आपको यह सलाह दी जाती है कि मोमबत्ती के स्थान पर दीपक जलाकर ही दीपक की लौ पर ध्यान केंद्रित करें क्योंकि मोमबत्ती की लौ जैसे-जैसे मोमबत्ती पिघलती जाएगी उसकी लो नीचे होती जाएगी और आपकी नजर भी झुकती जाएगी । जो ध्यान केंद्रित करने में आपका सहयोग नहीं करेंगे इसी वजह से कहा जाता है कि दीपक की रोशनी पर ही ध्यान केंद्रित करके त्राटक अभ्यास किया जा सकता है|

त्राटक मेडिटेशन कैसे किया जाता है?

How to do Tratak Meditation in Hindi
How to do Tratak Meditation in Hindi

सर्वप्रथम हम त्राटक मेडिसन का परिचय जानेंगे ।

त्राटक मेडिसन का अर्थ Meaning of Tratak Meditation:-

किसी भी एक बिंदु पर ध्यान केंद्रित करना त्राटक मेडिसन Tratak Meditation होता है |

त्राटक मेडिसन क्या है? What is tratak Meditation?

त्राटक शब्द का अर्थ किसी एक वस्तु पर ध्यान केंद्रित करना है| “त्राटक” हठयोग का ही एक प्रकार है। दृष्टि को जागृत करने के लिए हठयोग किया जाता है |] आंखों को आत्मा का प्रवेश द्वार माना जाता है| अतः त्राटक के द्वारा आंखों को आत्मा और मन के बीच संपर्क स्थापित कराया जाता है| यह कहना उचित होगा कि त्राटक में आंख आत्मा का प्रवेश द्वार है। ऐसा भी माना जाता है कि त्राटक मैं दोनों नेत्रों के द्वारा दोनों नेत्रों के बीच में स्थान होता है। अर्थात जो तीसरी आंख होती है, उसकी ओर ध्यान केंद्रित किया जाता है अतः तीनों नेत्रों के संगम के कारण इस योगाभ्यास को त्राटक योगाभ्यास या  त्राटक मेडिसन भी कहा गया है।

त्राटक तीन विधि से किया जाता है।

  1. मोमबत्ती की लौ पर ध्यान केंद्रित करना
  2. सफेद दीवार पर काला बिंदु लगाकर उस पर ध्यान केंद्रित करना
  3. किसी भी वस्तु जो आप चाहे उस पर लगातऱ ध्यान केंद्रित करना

 त्राटक मेडिटेशन के लाभ (Benefits of Tratak Meditation):-

Benefits of Tratak Meditation
Benefits of Tratak Meditation

1.  आत्म जागरण के द्वार खुल जाते हैं।

2.  क्रोध चिंता तनाव को दूर करता है ।

3.   संकल्प शक्ति को बढ़ाता है।

4.    स्मरण शक्ति को बढ़ाता है।

 5.  चेहरे पर विशेष नूर की प्राप्ति होती है।

 6.   नेत्रों में तेज की अनुभूति होती है।

 7.  ध्यान केंद्रित करने में मदद मिलती है ।

त्राटक मेडिटेशन का अभ्यास क्यों करना चाहिए?  Why should do Tratak Meditation ?

यदि आप अपने दिमाग को नियंत्रित करना चाहते हैं या संवहन को समझना चाहते हैं या दिमाग के रहस्य को जानना चाहते हैं तो यह मेडिटेशन अभ्यास अवश्य करना चाहिए |

त्राटक करते समय निम्न बातों का ध्यान रखना आवश्यक है -:

  1. त्राटक सुबह के समय ज्यादा लाभकारी है जिन्हें रात को नींद नहीं आती उन्हें रात को त्राटक मेडिटेशन अभ्यास करना चाहिए |
  2. यदि योगाभ्यास के दौरान त्राटक मेडिटेशन करे तो आसन और प्राणायाम के बाद त्राटक मेडिटेशन करना चाहिए और मंत्र उच्चारण या ध्यान अभ्यास से पहले त्राटक मेडिटेशन करना आवश्यक है |
  3. जो लोग पहली विधि से अभ्यास करें अर्थात मोमबत्ती पर ध्यान केंद्रित करके करें वह कमरे में पूरा अंधेरा रखें उस समय केवल मोमबत्ती प्रज्वलित करें|
  4. जिस स्थान पर या जिस कमरे में आप त्राटक मेडिटेशन कर रहे हैं वहां वायु का प्रवाह नहीं होना चाहिए|
  5. प्रयास करें मोमबत्ती की जगह दिया रखें |
  6. दूसरी व तीसरी विधि में रोशनी अवश्य रखें |
  7.  त्राटक की वस्तु जिस की ओर आप ध्यान केंद्रित करके त्राटक मेडिटेशन कर रहे हैं उस वस्तु को प्रतिदिन नहीं बदलना चाहिए जैसे कि पहले दिन आपने पंखा को त्राटक के लिए वस्तु मानकर अभ्यास किया तो आपको प्रतिदिन भी उस पंखा को ही वस्तु मानकर त्राटक का अभ्यास करना चाहिए |
  8. त्राटक मेडिटेशन अभ्यास आंखों में पानी ना आए तब तक करें |
  9. शुरुआत में 3 से 5 मिनट तत्पश्चात कुछ दिनों बाद 10 से 12 मिनट तक अभ्यास करें|
  10. नेत्र से संबंधित , मस्तिष्क संबंधित, मिर्गी होने पर यह अभ्यास डॉक्टर की सलाह से ही करें।

    अर्थात त्राटक किसी वस्तु पर ध्यान केंद्रित करना है ध्यान केंद्रित करने पर हमारे मस्तिष्क में चिंतन का प्रवाह कम होता है तथा सोचने की क्षमता में विकास होता है आदि।

FAQ Related To How to do Tratak Meditation in Hindi (5 Easy Steps)

Is Candle Tratak Good?( क्या Candle Tratak अच्छा होता है)

जी हां Candle Tratak आंखों के लिए Anxiety के लिए Depression के लिए बहुत ज्यादा असरदार हुआ करता है । इससे किसी भी व्यक्ति की Memory को और Concentration को सुधारा जा सकता है । तो हम यह कह सकते हैं Candle त्राटक बहुत ही फायदेमंद हुआ करता है।

Is Tratak Dangerous?(क्या Tratak Dangerous है?)

जी हां ऐसा कहा जाता है कि त्राटक Harmful हो सकता है । अगर आप किसी की Proper Guidance में उसे ना करें तो यह आपका गुस्सा बड़ा सकता है। या उससे आपको सिर दर्द की परेशानी हो सकती है तो इसीलिए कहा जाता है कि आप त्राटक करते वक्त अपनी Body को Force ना करें।

Final Words For How to do Tratak Meditation in Hindi (5 Easy Steps)

इस Article के माध्यम से आज हमने आपको बताया कि Tratak Meditation करते समय आपको किन किन चीजों का ध्यान रखना होता है । इस Article के माध्यम से आज नहीं है अभी जाना कि त्राटक Meditation क्या होता है । उसके क्या-क्या लाभ हुआ करते हैं ।
आशा है आप कोई Article पसंद आया होगा अपना कीमती वक्त निकालकर इस Article को पढ़ने के लिए धन्यवाद!

Leave a Comment