What is The Importance of Yoga in Our Daily life in 10 Easy Points

इस आर्टिक्ल ‘What is The Importance of Yoga in Our Daily life’ में बताया है कि हमारे दैनिक जीवन में योगा का महत्व है । हम दैनिक जीवन में प्रतिदिन सुबह नींद से उठने पर किसी न किसी कार्य में व्यस्त रहते हैं जिसके कारण शरीर में थकान , तनाव , चिंता अनेकों बीमारियां आदि समस्याओं का सामना करना पड़ता है | और इन समस्याओं से सामना करने के लिए या मुक्ति पाने के लिए Yoga का हमारे दैनिक जीवन में बहुत अधिक महत्व है ।

Importance of Yoga
Importance of Yoga

What is The Importance of Yoga in Our Daily life

हमारे दैनिक जीवन में Yoga का महत्व

Yoga के महत्व को जानने से पहले यदि हम योगा का परिचय जान लेंगे तो Yoga के महत्व को समझना हमारे लिए आसान हो जाएगा। 

परिचय -:    

                      शब्द    –     योगा 

                           भाषा     –      संस्कृत

                            धातु   –       युज

                            अर्थ     –      जोड़ना   

सामान्य शब्दों में कहा जाए तो आत्मा का शरीर रुपी पात्र से निकलकर परमात्मा से मिलना ही योगा है |

What is The Importance of Yoga in Our Daily life
What is The Importance of Yoga in Our Daily life

An Exmaple of The Importance of Yoga:-

Yoga को एक उदाहरण से स्पष्ट रूप से समझाया जा सकता है |   –     

शांत जल में आप किसी भी वस्तु को या स्वयं की परछाई को स्पष्ट रूप से देख सकते हैं |  लेकिन यदि शांत चल में पत्थर फेंक देते हैं तो उसमें तरंग चलने लगती है और तब जल में आप अपनी परछाई या कोई भी पात्र नहीं देख सकते हैं |   इसी प्रकार हमारे शरीर मे आत्मा भी अचेतन अवस्था में रहती है मस्तिष्क में भी अनेक विचार चलते रहते हैं और यह विचार लहर या तरंग के समान है और जब हम Yoga का सहारा लेते हैं तो यह विचार रूपी तरंग समाप्त हो जाती है और हमारी आत्मा चेतन अवस्था में आ जाती है तब हम संपूर्ण ब्रह्मांड को देखने में सक्षम हो जाते है                                                                      

The Importance of Yoga
The Importance of Yoga

Yoga सामान्य व्यक्ति के लिए जीवन पद्धति है , रोगी के लिए चिकित्सा पद्धति है योगी के लिए मुक्ति का मार्ग है ,  यह कहना उचित होगा कि योग शारीरिक, मानसिक, आत्मा की शक्ति तीनों में सहायक है |

अब संक्षिप्त रूप में योग का परिचय तो आपने जान ही लिया अब आपके लिए महत्वपूर्ण  यह जानना है की योग का हमारे दैनिक जीवन में क्या महत्व है|

 निम्न बिंदुओं से स्पष्ट किया जा सकता है कि योग हमारे दैनिक जीवन में इस प्रकार महत्व रखता है –

1.मस्तिष्क को सवस्थ रखना

2.शरीर को सवस्थ रखना

 3.आध्यात्मिक स्वास्थ्य

4.सामाजिक स्वास्थ्य

5.विचारों पर नियंत्रण

6. शल्य चिकित्सा से बचाव

7.सकारात्मक विचारों की उत्पत्ति

8.तनाव को कम करना

9. ध्यान शक्ति बढ़ाना 

10.आंतरिक अंग मजबूत रखना

1.मानसिक स्वास्थ्य –  

हमारे जीवन में अनेकों ऐसी समस्याएं होती है जिसका प्रभाव सीधे मस्तिष्क पर पड़ता है | इस कारण  मानसिक स्वास्थ्य को उचित बनाए रखने के लिए जब हम योगा करते हैं तो सबसे महत्वपूर्ण है की हम एकाग्रता और आसान मुद्रा में बैठकर का लंबी सांस लेते  हुए ॐ  उच्चारण करें साथ ही नेत्र बंद कर सम्पूर्ण एकाग्रता के साथ उच्चारण करने पर मस्तिष्क में उत्पन्न विचारों को शांत कर मस्तिष्क को सवस्थ रखा जा सकता है

Similar Articles:-

  1. 5 Easy Yoga Asanas for Weight Loss in Hindi
  2. Surya Namaskar Yoga Step by Step in Hindi

2.शारीरिक स्वास्थ्य –

व्यक्ति अपनी दिन प्रतिदिन की क्रियाओं को लंबे समय तक करता रहता है जिसके कारण थकान का अनुभव होता है साथ ही वर्तमान समय में शहरों में प्रदूषण स्तर के बढ़ने के कारण शरीर में अनेक रोग उत्पन्न हो जाते हैं |           

जैसे डायबिटीज़, अस्थमा, हृदयरोग आदि और इन सभी प्रकार के रोगों से दूर रहने के लिए लोग सामान्य रूप से एलोपैथिक दवाइयों का उपयोग करते हैं सामान्यता लोग खाने के लिए , सोने के लिए , भोजन पचाने के लिए ,  इत्यादि कार्यों के लिए भी दवाइयों का सेवन करते हैं ,और इन दवाइयों से छुटकारा पाने के लिए योग अभ्यास परम आवश्यक है 

3.आध्यात्मिक स्वास्थ्य – 

आध्यात्मिक स्वास्थ्य को सबसे पहले हम स्पष्ट रूप से समझेंगे कि आध्यात्मिक स्वास्थ्य क्या है ? स्वास्थ्य  “स्व” का अर्थ स्वयं  swasthye का अर्थ “स्थर” से है |  अर्थात जो स्वयं में स्थिर है वही व्यक्ति आध्यात्मिक रूप से स्वस्थ्य है  सामान्य शब्दों में कहा जाए तो अहं से मुक्त होना ही आध्यात्मिक स्वास्थ्य हैं , जब व्यक्ति अपने शरीर को ही अहं समझ लेता है तो वह कभी सवस्थ नहीं रह सकता और इस अहम से निकलने के लिए आत्मा का परमात्मा से मिलन आवश्यक है इस प्रकार अपने मन पर नियंत्रण करने के लिए मुख्य उपचार प्रतिदिन योगा अभ्यास करने को कहा जाए तो उचित होगा

4.सामाजिक स्वास्थ्य – 

व्यक्ति के जीवन में समाज का बहुत महत्व है ,व्यक्ति जब सुबह नींद से जागता है तब से ही उसकी सामाजिक क्रिया शुरू हो जाती है और रात को सोता है तब तक चलती रहती है, और इन अनेकों सामाजिक क्रिया के माध्यम से व्यक्ति अपनी दिनचर्या में अनेकों समस्याओं का सामना करता है|

चाहे समस्या पर्यावरण की हो यह जीवन में निर्णय लेने की हो आदि , लेकिन इन समस्याओं से दूर रहने के लिए प्रतिदिन के क्रियाकलापों में सुबह उठकर योगा अभ्यास किया जाए तू शारीरिक व मानसिक स्वास्थ्य के साथ – साथ व्यक्ति का सामाजिक रूप से भी सवस्थ  रहना आसान हो जाएगा  यह कहना उचित होगा कि योग समाज के लिए वरदान हैं

5.विचारों पर नियंत्रण –  

व्यक्ति अपने सामान्य जीवन में  अपनी दैनिक आवश्यकताओं वह दैनिक क्रियाकलापों के साथ अनेक विचारों का सामना करता है | मन मस्तिष्क अचेतन अवस्था में होने के कारण अनेक  विचार उत्पन्न करता रहता हैं | जिसके लिए योग के अंतर्गत योग का चतुर्थं आयाम जो कि प्राणायाम है का अभ्यास कर अपने विचारों को संत नियंत्रित कर सकता है |

6. शल्य चिकित्सा से बचाव –

वर्तमान में विभिन्न ऐसी बीमारियां हैं, जिनका ऑपरेशन करना सामान्य जैसे कैंसर गांठ ,पथरी , नेत्र आदि बीमारियों के लिए  शल्य चिकित्सा सामान्य बात है, लेकिन शल्य चिकित्सा से बचाव के लिए योगा तथा योग का चतुर्थं आयाम प्राणायाम में कपालभाती , भस्त्रिका आदि ऐसे प्राणायाम है | जिनके द्वारा हम इस प्रकार की सभी बीमारियों से छुटकारा पा सकते हैं | शल्य चिकित्सा से बचाव कर हमारे जीवन को स्वस्थ और खुशाल बना सकते हैं |

7. सकारात्मक विचारों की उत्पत्ति –  

व्यक्ति अपने दैनिक जीवन में ऐसे कई उतार चढाव देखता है जिनके कारण व्यक्ति के अंदर नकारात्मक ऊर्जा का प्रवेश होने लगता है और व्यक्ति बहुत अधिक चिंतन करने लगता है और यह चिंतन जब दिन प्रतिदिन बढ़ता जाता है और आपकी दैनिक दिनचर्या को प्रभावित करता है तो जीवन और अधिक कठिन हो जाता है |

इसलिए इस नकारात्मक ऊर्जा को शरीर से बाहर निकालना बहुत आवश्यक है , जिसके लिए एकमात्र वरदान योगा अभ्यास है जिसमें  भृआमरी प्राणायाम  साथ ही  ॐ का उच्चारण जो आत्मा का परमात्मा से मिलन कराने में सहायक है ऐसा योगा अभ्यास हमारे अंदर से नकारात्मक ऊर्जा को बाहर निकाल कर सकारात्मक ऊर्जा का प्रवेश कराने में सहायक होता है |

8. तनाव कम करना –

हमारे दैनिक जीवन में अनेकों ऐसे क्रियाकलाप होते हैं जिनका होना हमारे लिए  तनाव का कारण बन जाता है तनाव आना न केवल एक सामान्य बात तनाव के कारण क्रोध आना किसी भी विषय पर गलत निर्णय लेना अनेकों बीमारियों का शरीर में प्रवेश करना सामान्य बात है |

इस कारण क्रोध गलत निर्णय ,शरीर में होने वाली अनेक बीमारियों से बचाव के लिए हमें तनाव मुक्त होना आवश्यक     है | और  यह सोचने मात्र से कि हम किसी भी प्रकार का तनाव महसूस नहीं करेंगे से तनाव दूर नहीं होता |

इसके लिए  सबसे प्रमुख साधन है सुबह नींद से जागने पर ईश्वर का स्मरण करें और अपनी दैनिक दिनचर्या में से कुछ समय निकाल कर  योगा अभ्यास करने मात्र से आप तनाव  दूर रह सकते हैं |ऐसा नहीं है कि  आपको समस्याएं नहीं आएंगी या  तनाव नहीं होगा लेकिन योग से आपके अंदर उन समस्याओं का समाधान करने व व तनावमुक्त रहने की क्षमता  आपमें समाहित हो जाएगी ।

 9. ध्यान शक्ति बढ़ाना – 

व्यक्ति के प्रतिदिन या दैनिक जीवन में अनेकों बात ऐसी होती है  जिन्हें वह भूलना नहीं चाहता जैसे बच्चे अपने विषय में जो याद करते हैं वह भूल जाते हैं या कोई बड़ा व्यक्ति जो बाहर कार्य करता है अधिकांश समय वह भी अनेकों बातें भूल जाता है या गृहणी जो सम्पूर्ण घर को चलाती है

वह भी याद न रखने की समस्या का सामना करती है इसलिए ध्यान शक्ति को बढ़ाना आवश्यक है और ध्यान शक्ति को बढ़ाने के लिए मन मे  एकाग्रता का होना आवश्यक है, जैसा कि योगा के परिचय के समय आपको बताया गया है कि योग से हमारे मन में एकाग्रता बढ़ती है और मन शांत रहता है जिसके कारण हमारी ध्यान शक्ति भी बढ़ती है | (सरल शब्दों में कहा जाए तो योगा ध्यान शक्ति को बढ़ाने में महत्वपूर्ण स्थान रखता है | )

10.शरीर में स्फूर्ति बनाए रखना –

हम प्रतिदिन के कार्य प्रतिदिन ही करना चाहते हैं लेकिन शरीर में आलस्य के प्रवेश कर जाने पर यह संभव नहीं हो पाता है| जिसके कारण बहुत से कार्य छूट जाते हैं | कहा जाता है मनुष्य के  शरीर में रहने वाला आलस्य ही मनुष्य का सबसे बड़ा शत्रु है  और इस शत्रु को शरीर से बाहर निकालना परम आवश्यक है | जिसके लिए सूर्य नमस्कार जैसे कुछ योगाभ्यास प्रतिदिन करने से आलस्य को दूर कर स्फूर्ति बनाएँ रख सकते हैं ।

अतः योग एक चमत्कार शब्द है प्रातःकाल प्रतिदिन अपनी दैनिक दिनचर्या में योग को शामिल कर अपने दैनिक जीवन को मुक्ति मार्ग की ओर ले जा सकते हैं साथ ही दैनिक जीवन पद्धति में भी योग हमारे लिए वरदान है तथा चिकित्सा पद्धति में भी योग का प्रथम स्थान कहा जाना उचित होगा ।

FAQ Related To What is the importance of yoga in our daily life in 10 easy Points

What does yoga do to the Body?(योग शरीर में क्या करता है?)

क्योंकि बहुत सारे फायदे हुआ करते हैं जिसमें से कुछ फायदे इस प्रकार हैं कि योग करने से आपके शरीर में Balance, Flexibility और Strength आया करती है । आपके Movement में भी काफी सुधार हो जाता है । यदि आप योग करते हैं प्रति दिन तो इससे आपको सांस लेने में कोई दिक्कत नहीं आया करती और सांस से जुड़ी सारी बीमारियां दूर हुआ करती हैं।

Is Yoga Good For Beginners?(क्या योग Beginners के लिए अच्छा होता है?)

जी हां योग फिटनेस के लिए बहुत अच्छा हुआ करता है क्योंकि यदि Beginners की बात की जाए तो जो एक ऐसी चीज है जिसमें बहुत सारे Yogasan हुआ करते हैं जो की Beginner से लेकर Experienced के लिए हुआ करते हैं।

What is the best time to do Yoga?(योग करने का best Time क्या होता है?)

योग करने का Best Time सुबह का हुआ करता है यदि Experts की मानें तो योग करने का सबसे बढ़िया वक्त हुआ करता है ब्रह्म मुहूर्त। इसीलिए यदि आप योग करते हैं तो आपको कोशिश करनी चाहिए कि आप लोग सुबह के वक्त में ही करें।

Final words for Importance of Yoga:-

हमने इस Article के माध्यम से आप लोगों को यह बताने का प्रयास किया कि योग हमारे जीवन में कितना प्रभावशाली हुआ करता है इस Article के माध्यम से हमने Example की मदद से आप लोगों को बताया कि Importance Of Yoga क्या हुआ करते हैं और हमारी Daily Life पर उसका क्या फैसला करता है। हम आशा करते हैं कि आपको हमारा यह आर्टिक्ल आपको पसंद आया होगा । आप सभी इसे अपने जीवन में अपनाएं और अपने जीवन में सकारात्मक परिवर्तन पाएँ ।

Leave a Comment