What is Telepathy in Hindi and how to do that in 3 easy steps

इस Article की मदद से आज हम आप लोगों को यह बताने का प्रयास करेंगे कि What is Telepathy in Hindi और इस आर्टिकल में हम आप लोगों को यह भी बताने की कोशिश करेंगे कि Telepathy होती क्या है और इसे कैसे हम तीन Easy Steps में कर सकते हैं बहुत सारे लोग Telepathy के बारे में जानते तो हैं पर उन्हें यह नहीं पता होता कि इसे किया कैसे जा सकता है। कुछ लोग तो Telepathy के Meaning को जानते ही नहीं हैं उनके मन में बहुत सारे सवाल हुआ करते हैं तो उन सारे सवालों का जवाब Telepathy से Related यहां पर आज आपको मिलने वाला है।

What is Telepathy in Hindi
टेलीपैथी (Telepathy) क्या है ?

साधारण शब्दों में टेलीपैथी (Telepathy) एक ऐसा विज्ञान है जिसमे मानसिक रूप से हम अपने विचरों का आदान प्रदान दूसरे व्यक्ति तक पहुचा सकते हैं । इसके लिए हमे निरंतर अभ्यास की जरूरत होती है । टेलीपैथी (Telepathy) को सीखने के लिए एक योग्य टेलीपैथी (Telepathy) मास्टर की आवश्यकता होती है ।

What is Telepathy in Hindi
What is Telepathy in Hindi

मनुष्य एक ऐसा जीव है जिसके अंदर अपार शक्तियां समाई हुई है। दौड़ती भागती हुई इस जिंदगी में हम हमेशा अपने अंदर की शक्तियों को नजर अंदाज कर बैठते हैं। हमें अक्सर ऐसा लगता है कि हमारे वर्तमान में जो घटनाएं घटित हो रही हैं हमें सिर्फ उसी का ही ज्ञात है
पर क्या आप जानते हैं कि हमारे भूतकाल में जो भी घटित हुआ और वर्तमान में जो भी घटित होगा । हम कहीं ना कहीं उसका भी ज्ञात कर सकते हैं ।


इस बात को सुनकर शायद एक बार को आपको विश्वास ना हो पर यह बात बिल्कुल सत्य है और कई वैज्ञानिकों द्वारा इसका प्रमाण भी दिया गया है। तो ऐसी ही एक शक्ति जो की मनुष्यों में होती है ,जिसके माध्यम से हम बिना किसी दूरसंचार के सामने वाले मनुष्य के मन की बात को जान सकते हैं, और अपने मन की बात को उन तक पहुंचा सकते हैं । इसी शक्ति के बारे में ही हम आज बात करेंगे । जिसे हम टेलीपैथी के नाम से जानते हैं।

Meaning of Telepathy in Hindi

टेलीपैथी के हिंदी मीनिंग के बारे में अगर हम बात करें तो इसका मतलब “मानसिक दूरसंचार” या “दूरानुभूति” भी
है । अगर आसान लफ्जों में कहा जाए तो अपने मन की बात को सामने वाले के मन तक पहुंचाना बिना किसी दूरसंचार के अपनी मानसिक शक्तियों और अपने पूर्वाभास की शक्तियों के द्वारा।

Telepathy
Telepathy

संतमत दर्शन के अनुसार प्रत्येक मनुष्य में 14 इंद्रियां होती है।जो कि तीन भागों में विभाजित होती है – 5 ज्ञानेंद्रियां , 5 कर्म इंद्रियां और 4 अंत करण। हमें ऐसा लगता है कि हमारी सिर्फ पांच ज्ञानेंद्रियां ही हमेशा काम करती हैं पर जिंदगी में कभी ना कभी किसी ना किसी घटना में हर एक मनुष्य को ऐसा प्रतीत होता है कि उस घटना के घटित होने का पूर्वाभास उन्हें पहले ही हो गया था और यह होता है छठी इंद्री के वजह से।

छठी इंद्री वह इंद्री होती है जिसकी मदद से हम किसी भी मनुष्य तक अपनी बात बिना किसी दूरसंचार के पहुंचा सकते हैं । कोई भी घटना जो भविष्य में घटने वाली है उसका पूर्वाभास कर सकते हैं ,और जो हमारे भूतकाल में घटी हो उसका भी हम पता लगा सकते हैं अपनी छठी इंद्रि की शक्ति के द्वारा।

Scientist’s opinion on sixth sense?
छठी इंद्री के बारे में वैज्ञानिकों की राय?

बहुत लोगों का मानना है कि छठी इंद्री की बात सिर्फ एक काल्पनिक बात है पर ऐसा नहीं है यूनिवर्सिटी ऑफ ब्रिटिश कोलंबिया के वैज्ञानिक राॅन रेसिक ने बहुत सालों के शोध और अध्ययन कर ऐसा पाया कि छठी इंद्रिय के कारण हम भविष्य की घटनाओं का पूर्वाभास कर सकते हैं।
और इतना ही नहीं उन्होंने अपने अध्ययन में यह भी पाया की तकरीबन एक तिहाई लोगो की छठी इंद्रि सक्रिय होती है।

How does Telepathy works?
टेलीपैथी कैसे काम करती है?

टेलीपैथिक कम्युनिकेशन वैसा ही है जैसे हम अपने दूरभाष यंत्रों से एक दूसरे से बात किया करते हैं। जिसमें एक मनुष्य हमारे विचारों को इलेक्ट्रिक सिग्नल के रूप में भेज रहा होता है अतः वह सैंडर कहलाता है और दूसरा मनुष्य जो उन विचारों को प्राप्त कर रहा होता है वह रिसीवर कहलाता है। इस बात को समझने के लिए हमें पूरे टेलीपैथिक कम्युनिकेशन प्रक्रिया को तीन भागों में विभाजित करके समझना होगा।

1 पहला भाग

सबसे पहला भाग या सबसे पहला चरण इस पूरे टेलीपैथिक कम्युनिकेशन प्रक्रिया का वह हिस्सा होता है जिसमें हमे अपने मन को एकाग्र करके ,अपनी इंद्रियों को अपने वश में कर के अपने विचारों को शून्य करना होता है। विचार शून्यता इस पूरी प्रक्रिया का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है।

कुछ लोग इस विचार शून्यता को प्राप्त करने के लिए अक्सर मंद- मंद संगीत की भी सहायता लिया करते हैं। जब भी आप अपने विचारों को शून्य कर देते हैं तब आपकी एकाग्रता में और भावना शक्ति में मजबूती आती है, और इसी की मदद से आप अपने विचारों को इलेक्ट्रिक सिग्नल में बदलकर Amplify कर सकते हैं।

2 दूसरा भाग

बहुत लोगों का कहना है की यदि आपको टेलीपैथी (Telepathy) प्रभावशाली तरीके से करनी है या फिर आपको किसी दूसरे मनुष्य से प्रभावशाली तरीके से जुड़ना है तो विचार शून्यता (zero thoughts) के साथ आपको अपनी प्राण शक्ति पर भी कार्य करना होता है।

इस विद्या में पारंगत लोगों का कहना है कि आपकी प्राण शक्ति को अगर शरीर से अलग करने में आप सफल होते हैं तो इसकी मदद से आप एक जगह एकाग्र चित्त होकर अपने विचारों को प्रभावशाली तरीके से दूसरे तक भेज सकते हैं ,यह कुछ वैसा ही हो होता है जैसा कि हम एस्ट्रेल ट्रैवल में महसूस करते हैं । जिसमें हमारे मस्तिष्क में विचार शून्यता होती है और हमारा भौतिक शरीर शिथिल हो जाता है।

What is Telepathy in Hindi and how to do that in 3 easy steps

3 तीसरा भाग

तीसरे और आखिरी भाग में आप अपने संकल्प शक्ति को मजबूत करके एक मानसिक विचार उत्पन्न करते हैं। और वह विचार थोड़ा स्पष्ट और छोटा हो तो ज्यादा बेहतर होता है और उस विचार को आप सामने वाले तक अपनी संकल्प शक्ति के द्वारा पहुंचाने में सक्षम होते हैं। विचार संप्रेषण करते वक्त आपको इस चीज का खास ख्याल रखना होता है कि आप सिर्फ उसी मनुष्य के बारे में सोचें जिस मनुष्य तक आपको वह विचार पहुंचाना होता है।

FAQ Related to Telepathy

Is Telepathy safe ?
क्या टेलीपैथी सुरक्षित है?

बहुत लोगों का मानना है कि टेलीपैथी (Telepathy) एक ऐसी काल्पनिक अवस्था होती है जिसमें जाना कतई सुरक्षित नहीं होता।
पर यह सारी ही धारणाएं वैज्ञानिकों द्वारा सिरे से खारिज की गई है ।
बहुत सारे वैज्ञानिकों ने कई शोध में इस बात को सिरे से खारिज किया है की टेलीपैथी (Telepathy) असुरक्षित है ,और इस बात का अंदाजा हम इस चीज से भी लगा सकते हैं की आज तक इतने वक्त में इस प्रक्रिया को करते हुए कोई जनहानि नहीं हुई है ना किसी तरह की मानसिक परेशानी।

Can we practice Telepathy at Home?
क्या हम टेलीपैथी घर पर प्रैक्टिस कर सकते हैं?

जी हां, टेलीपैथी (Telepathy) की प्रैक्टिस घर पर आसानी से की जा सकती है ।
Article में बताए गए तीनों भागों में दी गई चीजों को आप घर पर आसानी से प्रैक्टिस कर सकते हैं।

Is telepathy Supernatural ?
क्या टेलीपैथी अलौकिक या काल्पनिक है?

नहीं , बिल्कुल भी नहीं जैसा की हमने आर्टिकल में भी कहा है की टेलीपैथी (Telepathy) पर बहुत से वैज्ञानिकों ने शोध किया है और इसके काल्पनिक ना होने की बात सिद्ध की है ।

Final words for “What is Telepathy”?.

इस आर्टिकल ‘What is Telepathy in Hindi’ के माध्यम से आज हमने यह जाना की टेलीपैथी क्या होती है, और इससे जुड़े कुछ तथ्य ,और हम उसे कैसे कर सकते हैं ,इसकी पूरी प्रक्रिया को हमने आप सभी के साथ साझा किया, और हम आशा करते हैं की आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा और आपने टेलीपैथी (Telepathy) के बारे में बहुत सी नई चीजें जानी होगी। आपका कीमती समय निकालकर पढ़ने के लिए धन्यवाद।

Leave a Comment