Surya Namaskar Yoga Step by Step in Hindi and its 7 amazing Benefits

आज Surya Namaskar Yoga Step by Step in Hindi को जानने का पूरा प्रयास करेंगे ।सूर्य ऊर्जा का मुख्य स्रोत माना जाता है ।सूर्य के माध्यम से हमें ऊर्जा की प्राप्ति होती है तथा महान ऋषि मुनियों द्वारा सूर्य की पूजा अर्चना की जाती है ।सूर्य को नमन करने से हमें एक अलौकिक ऊर्जा की प्राप्ति होती है। यदि हम योग केंद्र सूर्य नमस्कार को शामिल कर दे तो हमें काफी फायदा मिलना शुरू हो जाता है।

Surya Namaskar Yoga
Surya Namaskar Yoga

Surya Namaskar Yoga के अंदर 12 योगासन बताए गए हैं । प्रत्येक योगासन का अपना अलग अस्तित्व है। योग में शारीरिक रूप से स्वस्थ रखने के साथ-साथ हमें मानसिक तौर पर की शक्ति प्रदान करता है। यदि आप सूर्य नमस्कार को अपनी दिनचर्या में शामिल कर देते हो तो आपको इसके अनेक फायदे देखने को मिलेंगे । Surya Namaskar Yoga के द्वारा आपको एकाग्रता मन की शांति जैसे अनेक तरह के लाभ प्राप्त होंगे ।

Surya Namaskar Yoga करने हेतु ध्यान रखने योग्य बातें

  1. Surya Namaskar Yoga हेतु सदैव शांति तथा एकांत भरा वातावरण चयनित करना चाहिए।
  2. यह हमेशा सुबह के समय करना चाहिए।
  3. जब भी आप करें तो हमेशा ध्यान देगी आपका पेट खाली हो।सूर्य नमस्कार को हमेशा खाली पेट ही करना चाहिए जिससे आपको इसका पूरा फायदा मिल सके।
  4. सदैव इस बात का ध्यान रखें कि हमेशा खुली हवा भरा माहौल रहना चाहिए , किसी बंद कमरे के अंदर यह क्रिया नहीं करनी चाहिए।

Surya Namaskar Step by Stepin Hindi – Surya Namaskar Yoga

Surya Namaskar Yoga Step by Step in Hindi
Surya Namaskar Yoga Step by Step in Hindi

1.प्रणामासन

सूर्य की तरफ करने के उपरांत सीधे खड़े हो जाइए। ध्यान दें कि आपके दोनों पैर सीधे हो एवं आपस में मिले हुए हो तथा अपनी कमर को सीधी रखें।  अभी अपने हाथों को प्रणाम की अवस्था में लाते हुए छाती के पास लाए । अपने हाथों को प्रणाम की अवस्था में जोड़कर खड़े हो जाएं ।

2. हस्तुतनासन

पहले की मुद्रा में खड़े रहते हुए अपने हाथों को प्रणाम की अवस्था में ही पीछे की ओर ले जाएं तथा साथ साथ अपनी कमर को भी पीछे की ओर झुकाए ।

3. पादहस्तासन

अभी आप मंद गति से अपनी सास को छोड़ते हुए शरीर को आगे की ओर झुकाए । अभी धीरे-धीरे अपनी पैरों की गोलियों को हाथों की अंगुलियां से स्पर्श करें । इस मुद्रा में ध्यान दें कि आपका सिर घुटनों के पास होना चाहिए

4. अश्व संचालनासन (Ashwa Sanchalanasana

मंद गति से स्वास लेते हुए पेरो को पीछे फैलाने का प्रयास करे . इस बात का ध्यान रखे की आपके पैर का घुटना जमीं से स्पर्श होना चाहिए . अभी दूसरे पैर को मोड़ते हुए अपनी हथेलियों को जमीन पर रखिये एवं अपने माथे को आसमान की दिशा में रखे .

5. दंडासन (Dandasana – Staff Pose )

अभी आपको धीरे धीरे साँस छोड़ने के दौरान अपने हाथ एवं पाव को सीधा रखे . और आप पूस-उप की पोजीसन में आने का प्रयास करे  .

6 . अष्टांग नमस्कार (Ashtanga Namaskara

अभी आप साँस लेते हुए धीरे से अपने हाथ पाव छाती एवं माथे को जमीन के ऊपर लेकर आइये . अभी आप अपनी साँस को रोकने का प्रयास करे .

7 . भुजंगासन (Bhujangasana –

अभी आपको अपने सिर को पीछे की और झुकना है जिसमे आपको अपने पेट तथा छाती को जमीन से ऊपर उठाना है तथा पीछे आप जितना झुक सकते है उतना झुकाने का प्रयास करे .

8. अधोमुख शवासन (Adho Mukha Svanasana

इस मुद्रा को पर्वतनाशन भी कहा जाता है . इस मुद्रा को करने के लिए आपको अपने पेरो तथा हथेलियों को जमीन से स्पर्श रखना है एवं अपने कूल्हे को ऊपर की और उठाना है . साँस छोड़ने के साथ ही कंधे को सीधा रखते हुए सिर को अंदर की और खींचे .

9. अश्व संचालनासन (Ashwa Sanchalanasana –

इस मुद्रा के अंतर्गत आपको दाये पाव को सीधा जमीन पर रखना है एवं अपने हथेलियों को भी जमीन से स्पर्श रखनी है  . अभी आप अपने बाये पाँव के घुटने को मोड़ते हुए अंदर की और खींचे . अभी इस मुद्रा में आपको सिर आसमान की तरफ करना है  .

10. पादहस्तासन (Padahastasana –

इस मुद्रा में आपको अपने हाथ को   पाव से स्पर्श करवाते हुए स्वास को छोड़ना है . इस मुद्रा में ध्यान रखे की आपका सिर आपके घुटनो से मिला हुआ होना चाहिए .

11. हस्तउत्तनासन (Hasta Uttanasana

इसमें आपको पहले की भांति ही खड़ा रहना है एवं अपने हाथो तथा छाती को पीछे की और ले जाये . यह मुद्रा करते समय धायण दे की आपका शरीर आधे चाँद की आकृति में हो . जब आप अपने हाथो को पीछे की और ले जाये तो आपके हाथ प्रणाम की अवस्था में होने चाहिए . इस आसान को आप अर्धचंद्रासन भी कह सकते है .

12. प्रणामासन (Pranamasana

इस आसान को करने हेतु आप सीधे सामान्य स्थिति में खड़े हो जाये . अभी अपने हाथो को प्रणाम की अवस्था में छाती के पास लेकर आये . आपको अभी सूर्य की तरफ मुख करके प्रणाम की अवस्था में रहना है .

You must see the below video:-

LISTEN TO THIS EVERY NIGHT Before You Sleep 

Surya Namaskar Yoga करते समय क्या क्या सावधानिया रखने चाहिए  ?

  1. सूर्य नमस्कार सदैव ताजी हवा के साथ सुबह के टाइम करना बेहतर है .
  2. यदि आप ऐसे पहली बार कर रहे है , या आप इसमें नए है  तो ऐसे धीरे धीरे करे  .

Surya Namaskar Yoga के फायदे – Health Benefits of Surya Namaskar

  1. इससे मनुष्य का वजन नियंत्रित होता है .
  2. पाचन तथा भूख के अंतर्गत सुधार आता है .
  3. व्यक्ति के शरीर को लचीला बनाने का कार्य करता है .
  4. कब्ज जैसी समस्या के लिए लाभदायक
  5. मनुष्य को शारीरिक एवं मानशिक तौर पर मजबूत बनाने का कार्य करता है
  6. शरीर की हड्डियों तथा शारीरिक के रक्त लेवल को नियंत्रित करने में सहायक है .
  7. मसल्ज को निखारता है . एवं बाजु , पैर , कमर , कंधो आदि की मासपेशियो में सुधार लता है .

FAQ related to Surya Namaskar Yoga Step by Step

How many Surya Namaskar should be done in a day?( Surya Namaskar एक दिन कितने करने चाहिए?

ऐसा कहा जाता है Experts के द्वारा कि यदि आप Beginner हैं । जिसने अभी सूर्य नमस्कार करना शुरू ही किया है तो आपके लिए दिन में 11 Cycles से ज्यादा करना लाभदाई नहीं हुआ होगा । यदि आप धीरे-धीरे पुराने हो गए हैं यह करते हुए तो आप इससे ज्यादा भी कर सकते हैं।

What is Surya Namaskar and its Benefits?( Surya Namaskar क्या होता है और उसके Benefits क्या होते है ?)

सूर्यनमस्कार योग विद्या का एक ऐसा बेहतरीन आसन है जिसकी मदद से आप अपनी कमर को अपने हाथों की मसल्स को ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल कर सकते हैं इसे द अल्टीमेट आसन भी कहा जाता है इसकी मदद से आप ब्लड सरकुलेशन तो सही कर ही सकते हैं बल्कि उसके साथ-साथ आप अपने मेटाबॉलिज्म को भी सुधार सकते हैं।

What are the 12 Asana of Surya Namaskar?( Surya Namaskar के 12 आसन कौनसे है?)

सूर्य नमस्कार के 12 आसन हुआ करते हैं जैसा कि हमने ऊपर Article में भी चर्चा की है कि सूर्य नमस्कार के 12 कौन-कौन से आसन हुआ करते हैं। उनको हमने Step by Step ऊपर Article में समझाया है और उन्हें बताया है कि उन्हें कैसे किया जा सकता है।

Final words for Surya Namaskar Yoga Step by Step

आज इस Article की मदद से हमने आप लोगों को Ultimate आसन सूर्य नमस्कार योगा कों Step by Step समझाया। आप लोगों को यह भी बताया कि क्या-क्या चीजों को आप को ध्यान देना होता है सूर्य नमस्कार करते हुए। इस आर्टिकल के माध्यम से हमने आप लोगों को इस चीज से भी अवगत करवाने का प्रयास किया है कि सूर्य नमस्कार योग के फायदे क्या क्या हुआ करते हैं । हमने आज आपको यह भी बताया कि इस को करने का सही समय क्या होता है।

आज के लेख में हमने Surya Namaskar Yoga से जुड़े कुछ मुद्राओ के ऊपर चर्चा की है  . Surya Namaskar Yoga व्यक्ति के जीवन में कितना उपयोगी इस बात से हम भली भाति वाकिफ है .हमने आपको Surya Namaskar Yoga से जुडी हर संभव जानकारी देने की कोशिस की है . हम आशा करते है की आपको  हमारा आर्टिकल पसंद आया होगा .

Leave a Comment