Who Introduced Yoga in The World and its 3 Amazing Benefits

हम जानेंगे Who Introduced Yoga in The World . जैसा की हम जानते है  Yoga day 21 जून के दिन मनाया जाता है इस दिन भारत ही नहीं बल्कि अनेक देशो की अध्यक्ष्ता में योग दिवस को बड़े ही हर्षोउल्लास के साथ मनाया जाता है . योग Human body की सबसे अहम् जरुरत मेसे एक है क्योकि इससे मनुष्य के शरीर की अनेको बीमारिया खतम होती है इसके साथ ही योग हमारे शरीर को स्वस्थ बनाये रखने में हमारी काफी सहायता करता है .

Who Introduced Yoga in The World
Who Introduced Yoga in The World

जब व्यक्ति योग करने से पीछे हटता है तो इसमें व्यक्ति स्वम को ही बहुत बड़ा धोखा दे रहा है . पिछले कुछ वर्षो से योग दिवस अलग अलग स्थानों पर मनाया जाता आ रहा है जिसमे अनेक देखो की अध्यक्ष्ता में यह मनाया जाता है और कई तरह के योगाभ्यास किये जाते है .

योग की शुरआत Who Introduced Yoga in The World

हम योग के इतिहास की बात करे तो ये बहुत पुराना होता जा रहा है लगभग 5000 हजार साल से भी ज्यादा समय पहले योग की उतपति मानी जाती है . व्यक्ति अपने आध्यात्मिक , शारीरिक एवं मानशिक विकाश के लिए योग का सहारा लेता रहा है .

ऐसा माना जा रहा है जिसमे बताया गया है की अगस्त नामक सप्तऋषि जो भारत दौरे पर आया था उसे ही योग की नीव भारत में सर्वप्रथम रखी थी . योग की उत्पति भारत देश में ही मानी जाती है इसके बाद धीरे धीरे ये बाकि के देशो में विस्तृत होने लगा .

Who Introduced Yoga to the world
Who Introduced Yoga to the world

योग के अंदर सर्वप्रथम पतंजलि का नाम अवश्य आता है जिन्होंने योग को पाखंड , अन्धविश्वास , आस्था से बाहर निकलने के बाद एक सुचारु रूप दिया था . योग हमारे भारत की प्राचीन धरोहर मानी जाती है और यह धरोहर धीरे धीरे लगभग सभी देशो एवं महाद्वीपों में फेल गयी और इसके अनेको जगह पर सर्चे होने लगे थे .

भारत के वर्तमान प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा सयुक्त राष्ट्र महासभा  की मांग पर  27 सितम्बर 2014 के दिन योग की पहल रखी गयी . जिसमे  177 सदस्यों की अध्यक्षता में में 21 जून 2015 को पहली बार भारत में योग दिवस (who introduced yoga) मनाया गया . जैसा की हम जानते है की 21 जून का दिन वर्ष के अंदर सबसे बड़ा दिन होता है और ऐसी दिन योग दिवस भी मनाया जाता है इसलिए ऐसी मान्यता है की योग से मनुष्य की उम्र भी लम्बी होती है .

आसान एवं प्राणायाम का महत्त्व क्या है ? Who introduced yoga in Hindi full information:-

इस बात से हम भली भांति परिचित है की योग के अंदर अनेक प्रकार के व्यायाम , प्राणायाम तथा कपालभांति होते है जो की हमारे साँस लेने में अच्छी सहायता करते है .  यदि हम अपनी रोजमर्रा की जिंदगी में इन आसन एवं प्राणायाम को शामिल कर दे तो हम कई तरह की बीमारियों जैसे उच्च रक्त छाप , low bp , जैसी अनेको बीमारियों से बच सकते है .

You Must read:-

How to Meditate

 योग वह साधन बन चूका है जिसमे यदि आप अपनी प्रतिदिन की दिनचर्या में योग को शामिल कर ले तो आपका स्वास्थ्य बहुत हद तक सुधर सकता है . योगा से हमारे शरीर में कई सारे हार्मोन changes  आते है जो हमारी बॉडी के लिए आवश्यक है जिसमे हमें लाभ प्राप्त होता है . धीरे धीरे आप महसूस कर पाएंगे की आपकी बीमारिया आपसे दूर हो रही है और आपको एक नई दिशा मिल रही है .

कपालभांति , प्राणायाम , अनुलोम विलोम , भ्रामरी जैसे कई ऐसे प्राणायाम जो आपकी रोजमर्रा की जिंदगी के हिस्से होते है तो आप कई तरह की भारी बीमारियों से बच सकते है . योग आपके शरीर को मानशिक एवं शारीरिक रूप से स्वस्थ रखने के साथ ही ये आपके वजन को भी नियंत्रित करने का कार्य करता है . यदि आप डायबटीज , उच्च रक्त चाप , या अन्य कोई बीमारी से पीड़ित है तो आपको योग को अपने दिनचर्या में अवश्य शामिल करना चाहिए जिससे आपको काफी हद तक लाभ मिलेगा .

कुछ योगासन जिसमे स्वस्तिकासन से पेरो के दर्द में , गोमुखासन के द्वारा गाठिया, यकृत एवं गुर्दे की समस्या दूर होती है.

इसके साथ ही जब आप रोजाना इस अभ्यास करते है तो आपके शरीर में रक्त परिसंचरण तंत्र ठीक से कार्य करता है जिससे आपके चहरे में भी चमक आने लगती है .

योग के विभिन प्रकार के आसनो से लाभ प्राप्त करने हेतु आपको नियमितता एवं सुरक्षा का ख़ास ध्यान रखना पड़ता है तभी आप इसका सही लाभ उठा पाएंगे .

योग के फायदे कौन कौन से है ? Benefits of Yoga

जब आप योग करके रहे तो आपको स्वशन क्रिया अवश्य करनी चाहिए जिससे आपको अच्छा फायदा मिलता है . who introduced yoga

योग के फायदे कौन कौन से है ? Benefits of Yoga
  1. आज योग के अंदर शरीर के हर छोटे मोटे भाग का व्यायाम होता है जो अलग अगल अंग के लिए भिन्न भिन्न प्रकार का होता है . व्यायाम करने के लिए आपको किसी निचित उम्र का होता अनिवार्य नहीं है व्यायाम आपके शरीर को एक अलग दिशा देती है . जिसमे आपको सकारात्मक ऊर्जा का अहसास होता है इसके साथ ही आपके शरीर की सारी नकारात्मक ऊर्जा बाहर  निकल जाती है  .
  2. योग जो है आपके शरीर को शांति प्रदान करने के साथ ही आपके मन को भी एक शक्ति प्रदान करता है जो आपका मन बार बार भ्रमित हो जाता है आप उसे कण्ट्रोल कर सकते है वो भी योग के द्वारा , योग आपके मन की उलझनों को दूर करने के लिए काफी कारगर साबित हुआ है .
  3. यदि आपका अपने मन पर कण्ट्रोल नहीं है तो आपको योग को अपनाना चाहिए जिससे आपके भटकते मन को सही दिशा का ज्ञान हो सके .

FAQ Related To Who introduced yoga in the world

When was yoga Introduced? ( योग कब introduce हुआ?)

ऐसा कहा जाता है कि Yoga Sarasvati Valley Civilization के Time से ही अस्तित्व में आ गया था जो कि 2700 B.C ही पुराना है योग उस वक्त में Spirituality और Human Development के लिए किया जाता था।

Who is the founder of Yoga? ( योग के founder कौन थे?)

योग के फाउंडर पतंजलि को कहा जाता है पतंजलि के सूत्र हमारी योग विद्या के कैसे सूत्र कहे जाते हैं जिसकी दम पर आज भी लोग योग की गहराई को समझ पाते हैं और इतनी अच्छे से समझ पाते हैं कि कोई और इसे समझा पाने में असमर्थ हो जाता है।

Did Shiva invent Yoga ? ( क्या शिव जी ने योग invent किया?)

भगवान शिव को Adi Yogi कहा जाता है इसीलिए उन्हें Father और Founder of Yoga कहा जाता है ऐसा कहा जाता है कि योग के सबसे पहले Teacher भगवान शिव ही थे और इसीलिए भगवान शिव को Meditation में Supreme माना जाता है।

Final words for ‘Who Introduced Yoga in The World’

ईस Article की मदद से आज हम लोगों ने जाना की योग को दुनिया में किसने Introduce किया था और इस Article की मदद से हमने यह भी जानना कि योग के क्या-क्या Benefits हुआ करते हैं।

हम आशा करते हैं कि आपको हमारा यह आर्टिक्ल ‘Who Introduced Yoga in The World‘ पसंद आया होगा । इससे संबन्धित सभी सामग्री मैंने इंटरनेट व अपने अनुभव के आधार पर लिखी है । फिर भी यदि गलती से कोई जानकारी अधूरी या किसी कारणवश गलत लिखी गयी हो तो हमे मैसेज करें । हम उसे ठीक करने की पूरी कोशिश करंगे ।

Leave a Comment