What is Reiki Meditation techniques in Hindi By Reiki Grandmaster : 3 Best Focus Points

मैं इस आर्टिक्ल में आपको ‘Reiki Meditation techniques’ के विषय में बताने वाला हूँ । यह जानकारी आपके लिए बहुत ही Useful होने वाली है । अपने अनुभव के आधार पर यह जानकारी आपको बताने वाला हूँ ।

Reiki Meditation techniques
Reiki Meditation techniques

What is Reiki Meditation techniques in Hindi:-

Reiki से ध्यान

            वैसे तो ध्यान किसी भी समय किसी भी स्थान पर या किसी भी स्थिति में किया जा सकता है लेकिन यह स्थिति तब आती है जब आप महीनों तक ध्यान का अभ्यास कर चुके हो। प्रारम्भ में ध्यान के लिए सुबह या श्याम का समय ज्यादा उपयुक्त रहता है। ध्यान करने के लिए किसी शांत कमरें का चयन करें। अल्फा संगीत चलाए। आसन, चटाई, कालीन या कपड़े पर शांत चित बैठ जाएं।                

What is Reiki Meditation techniques in Hindi

पहले दी गई विधि से स्वयं को शुद्ध व चार्ज करें। फिर अपने सह्सार चक्र के ऊपर अपने हाथ से, क्रिस्टल पैन्सिल या फिर मानसिक रूप प्रतीक 3 बनाए व मन ही मन बोले होन सा जै सो नैन-3 मुझे ब्रहाण्ड की ध्यान शक्ति से जोड़ो-3। फिर मन ही मन बोले- मै ध्यान की शक्ति से जुड़ चुका हूँ -3 और अपने आपको जुड़ा हुआ महसूस करें। ध्यान ऊर्जा को अपने अन्दर आता महसूस करें। ऐसा महसूस करते रहे……….फिर अपना पूरा का पूरा ध्यान आ रही श्वाश  व जा रही श्वाश पर केन्द्रित करें।   

  

महसूस करें कैसे आपके अन्दर प्रत्येक श्वाश आ रही है व कैसे जा रही है। श्वाश दॉंए नथुने से आ रही है या बॉंए नथुने से या फिर दोनों नथुनों से एक साथ आ रही है। ऐसे ही प्रत्येक जा रही श्वाश को महसूस करें। इसके लिए कोई प्रयास न करें।  यदि श्वाश का पता न चले तो कुछ श्वाश तेजी से लिए व छोड़ें जा सकते हैं। फिर आपको महसूस हो जाएगा। हो सकता है कुछ दिनों तक महसूस न हो परन्तु घबराए नहीं और न ही छोड़ें। फिर श्वाश को सामान्य गति पर छोड़ दें। महसूस करे ष्वास नथूनों में कहां स्पर्ष कर रही है। जब श्वाश अन्दर आ रही है तो वह गर्म है या ठण्डी है।

Focus Points of ‘Reiki Meditation techniques’                

जब श्वाश जा रही है तो वह गर्म है या ठण्डी है। ऐसा महसूस करते समय कोई विचार मन में न लेकर आएं। न किसी मन्त्र और न किसी सकारात्मक वाक्य को दौहराए। शांत चित रहे। विचार आए तो आने दें, जाए तो जाने दें। आप स्वयं कुछ न करें। अपनी ऊर्जा विचारों में न जोड़ो। तटस्थ भाव से देखते रहे-3 । ऐसा प्रतिदिन 30 मिनट तक करें। धीरे-2 आपका ध्यान लगना प्रारम्भ हो जाएगा। इसमें कोई जल्दबाजी न करें। ध्यान एक सतत् अभ्यास है न की एक दो दिन में प्राप्त करने की कोई वस्तु।               

ध्यान प्रारम्भ में एक ही स्थान पर एक ही समय प्रतिदिन साफ स्वच्छ होकर व ढीले वस्त्र पहन कर करना चाहिए। ध्यान से हमारे अन्दर सकारात्मक ऊर्जा बढ़ती है। गलत आदतें छुटती है। व्यक्तित्व में सकारात्मक परिवर्तन आता है।

What is Reiki Meditation techniques in Hindi
What is Reiki Meditation techniques in Hindi

काम करने में मन लगता है। श रीर दिन प्रतिदिन स्वस्थ होता चला जाता है। दूसरे व्यक्ति भी ध्यानी व्यक्ति से प्रभावित हुए बगैर नही रहते। भय,  क्रोध,  तनाव दूर होता है। याद करने की शक्ति बढ़ती है। मधुर सम्बन्ध हो जाते हैं।                

ध्यानी व्यक्ति के सम्पर्क में आने वाला प्रत्येक व्यक्ति अच्छा महसूस करता है। इसका उदाहरण हमारे ऋशि-मुनि व साधू-संत है। भगवान बुद्ध, भगवान ईसा मसीह, भगवान कृष्ण आदि के विश य में तो यह सामान्यतः प्रचलित है कि इनके सम्पर्क मात्र में आने से लोग अच्छा महसूस करते थे। ध्यान करने के लिए आपको कहीं जंगलों में जाने की अवश्यकता नही है और न ही वेश बदलने की। आप गृहस्थ में रहकर भी ध्यान कर सकते हैं। आजकल ध्यान से सम्बन्धित अनेक कोर्स देश –विदेशों में चल रहे हैं। 

You Must See Below Video:-

Think Fast.Think Smart! by Sandeep Maheshwari in Hindi        

ध्यान करते समय हाथें से ज्ञान मुद्रा बना सकते हैं या दोनों हाथों की हथेलियों में चार्ज गोल क्रिस्टल बाल लेकर ध्यान कर सकते हैं। हथेलियों में चार्ज क्रिस्टल बॉल लेकर ध्यान करने से हीलिंग पावर बढ़ता है व Reiki का प्रवाह अधिक होता चला जाता है। साथ ही चार्ज क्रिस्टल बॉल शरीर व मन की नकारात्मक ऊर्जा को खींचती है। सभी अवरोधों को दर करती है। ऐसा करने से हथेलियों के चक्र भी जाग्रत होते हैं और हथेलियों की महसूस करने की श क्ति भी बढ़ती है।                

ध्यानि व्यक्ति आभामण्डल को महसूस करके बता सकता है कि श रीर के कौन से अंग में व्याधि है। ध्यान करते समय ज्ञान मुद्रा बनाने से याद करने की क्षमता में बढ़ोतरी होती है। आभामण्डल मजबूत होता है। ध्यान करने के बाद ध्यान ऊर्जा से अपना सम्बन्ध विच्छेद करें। रेकी श क्ति को बन्द करें। सभी का धन्यवाद करें। रेकी ऊर्जा को वापस ब्रह्मांड में भेज दें।  

नोटः- 

ध्यान करते समय स्फटीक की माला भी पहली जा सकती है। ध्यान पिरामिड के नीचे बैठकर किया जाए तो ध्यान जल्दी लगता है। जहॉं बैठकर आप ध्यान करें ऊपर छत के साथ एक बड़ा धातु, लकड़ी या प्लास्टिक का पिरामिड लगा सकते है।

Final words for What is Reiki Meditation techniques:-

हम आशा करते हैं कि आपको हमारा यह आर्टिक्ल ‘What is Reiki Meditation techniques in Hindi’ पसंद आया होगा ।

Leave a Comment