What is Reiki Attunement Process in Hindi With 5 best Focus Point By Reiki Grandmaster

मैंने इस आर्टिक्ल ‘What is Reiki Attunement Process in Hindi’ में Reiki Attunement Process के विषय में पूरी जानकारी दी है । जिसे कोई भी रेकी मास्टर या रेकी ग्रांड मास्टर अपना का अपने रेकी चैनल का Attunement कर सकता है ।

What is Reiki Attunement Process in Hindi:-

रेकी शक्तिपात क्या है?:-

शक्तिपात का मतलब है शक्ति+पात अर्थात शक्ति का प्रवाह करना या दूसरे शब्दों में शक्ति डालना कह सकते हैं जैसे कि पहले भी बताया है कि रेकी जन्मजात प्रत्येक मनुष्य में होती है। परन्तु वह सुप्त अवस्था में होती है।

Reiki Attunement Process
Reiki Attunement Process

शक्तिपात विधि से रेकी मास्टर सुप्त पड़ी इस शक्ति को जाग्रति करते हैं। जिसे की यह शक्ति क्रियाशील हो जाती है। रेकी शक्ति को केवल रेकी ग्रैंड मास्टर या रेकी मासटर ही शक्तिपात द्वारा जाग्रति कर सकते हैं।

जिसनें इसकी विधिवत पूर्णतः शिक्षा ग्रहण की हो और अभ्यास क्रिया हो। रेकी शक्तिपात एक गोपनीय प्रक्रिया होती है। इस प्रक्रिया को पूर्ण करने में कम से कम आधे घण्टे का समय लग जाता है। इसके बाद शरीर के चक्र सक्रिया हो जाते हैं। 

What is Reiki Attunement Process in Hindi
What is Reiki Attunement Process in Hindi

Preparation for Reiki Attunement:-

रेकी शक्तिपात की तैयारी 

रेकी शक्तिपात से पहले की तैयारी जिस दिन शक्तिपात करना है उससे पहले तैयारी करना आवश्यक है। उस दिन नाश्ता हल्का करना चाहिए।

जहाँ तक हो सके नहाकर बैठना चाहिए, सम्भव हो सके तो फलाहार लेना चाहिए। जिससे कि शरीर में भारीपन व सुस्ती न रहे। ताकि रेकी शक्तिपात के दौरान दी गई उर्जा पूर्ण रूप से शरीर में प्रवेश कर सके।

इसके लिए मन को शान्त रखे व चिन्ता मुक्त रखे । अधिक विचारों को अपने मन में स्थान न दें। यथासम्भव मौन रहे। ढ़ीले वस्त्र पहने जो आपके लिए आरामदायक हो। शरीर पर कम आभूषण पहने हों।

क्योंकि उंगलियों में पहली अंगूठी आदि उर्जा के मार्ग को अवरोध करती हैं। रेकी शक्तिपात व रेकी करते समय मन को एकाग्र रखें। 

You must see below:-

The Solution to all your Problems – By Sandeep Maheshwari 

Reiki Attunement and Meditation:-

रेकी शक्तिपात व ध्यान 

रेकी शक्तिपात दो तरह से किया जाता है। पहला तो आप प्रत्यक्ष रूप से रेकी मास्टर के पास जाकर रेकी शक्तिपात ले सकते हैं। दूसरा रेकी शक्तिपात दूर रहकर भी या घर बैठकर भी प्राप्त कर सकते हैं।

यहाँ दूरस्थ दूर रहकर रेकी शक्तिपात के विषय में चर्चा करते हैं। अब आप रेकी शक्तिपात के लिए तैयार हो जाएँ । शक्तिपात की क्रिया के लिए आप एक कुर्सी ले जिस पर आप आरामदायक अवस्था में बैठ सकें।

उसके बाद आप अपने पैरों के नीचे कोई मोटा कपड़ा, चदर, चटाई या कालीन बिछा लें या आप अपने पैरों में जुराबे पहन लें, ताकि शक्तिपात के समय दी गई उर्जा पृथ्वी  में न जाकर पूर्णरूप से आपको प्राप्त हो।

रेकी शक्तिपात के दौरान रेकी संगीत व धार्मिक जैसे ऊॅं ध्वनि, मन्त्र ध्वनि आदि का भी प्रयोग कर सकते हैं। ये संगीत सी.डी. या कैसेट के रूप में केन्द्र में उपलब्ध है, जो आप मंगवा सकते हैं ।

अल्फा संगीत का भी प्रयोग कर सकते। ध्वनि न तो अधिक तेज हो और न अधिक मन्दी। ध्वनि सन्तुलित हो। अब आप कुर्सी पर बैठ कर दोनो पैरों को समान्तर रखें।

याद रखें कि शक्तिपात के समय कोई भी अंग क्रोस नही होना चाहिए। जब तक शक्तिपात न हो जाए तब तक न तो बीच में बोले और न ही उठें। अपनी आँखें शक्तिपात के दौरान  बन्द रखें। शक्तिपात के बाद धीरे-धीरे आँखें खोलें। 

Focus Points of Reiki Attunement Process:-

दूरस्थ रेकी शक्तिपात के लिए केन्द्र से पहले ही सभी आवश्यक  सामग्री व जानकारी ले लेनी चाहिए और शक्तिपात का समय भी पहले ही तय कर लेना चाहिए। शक्तिपात के बाद धीरे-2 आखें खोले।

आँखें खोलने के लिए आंखों पर अतिरिक्त दबाव न दें। स्वाभाविक रूप से आँखेँ खुलने दे। यदि आँखेँ न खुले तो कुछ समय इसी अवस्था में रहें। अब धीरे-धीरे अपने सम्पूर्ण शरीर को महसूस करें।

फिर दोनों पैरों को व उसकी उंगलियों को महसूस करें।  अब आपका शरीर धीरे-धीरे स्वाभाविक चेतना में आ जाएगा। दोनों हाथों को जारे से 21 बार आपस में रगड़ें और आँखों पर मसले । आँखेँ खोल लें। 

आपका पुनः रेकी कोर्स में स्वागत है।

आपको रेकी चैनल होने की बधाई हो।

यह आपका नवीन जीवन है।

अब आप एक रेकी प्रथम डिग्री चैनल है।

अब आप अपना उपचार कर सकते हैं। 

Experience during Reiki Attunement Process:-

शक्तिपात के अनुभव

आपको रेकी शक्तिपात के दौरान कैसा महसूस हुआ, अपने अनुभवों को एक रेकी डायरी में अंकित करें। प्रत्येक रेकी चैनल के अपने अलग-2 अनुभव हो सकते हैं।

यदि किसी कारणवश कोई अनुभव नही हुआ तो चिन्ता न करें। एकाग्रता की कमी, बाहरी शोरगुल या फिर मन में चल रहे विचार इसके लिए जिम्मेवार हो सकते हैं।

लेकिन जो उर्जा आपके चक्रों जाग्रत होने के लिए चाहिए थी वह उनको मिल गई है। रेकी शक्तिपात के दौरान बहुत से रेकी चैनलों को आनन्द की अनुभूति होती है, ध्यान भी लग जाता है।

ध्यान में उनको अपने इष्ट गुरू या देवी-देवता के दर्शन होते हैं। कोई भूत भविष्य से जुड़ा द्रष्य दिखाई दे सकता है। विभिन्न प्रकार की ध्वनियां सुनाई दे सकती है। सामान्य यह देखा गया है कि रेकी चैनल शक्तिपात के दौरान गहरे ध्यान में चले जाते हैं।

जिससे की शक्तिपात के बाद आँखेँ खोलनी मुश्किल हो जाती है।  धीरे-2 आँखेँ खोलनी चाहिए।

Final words for Attunement in Reiki:-

हम आशा करते हैं कि आपको हमारा यह आर्टिक्ल ‘What is Reiki Attunement Process in Hindi’ आपको पसंद आया होगा । इस आर्टिक्ल ‘Attunement in Reiki‘ को पढ़ने के लिए आप सभी का धन्यवाद । हम ऐसा ही Interesting आर्टिक्ल आप लोगों के लिए लाते रहेंगे ।

Rate this post

Leave a Comment